featured देश

दिल्ली से अयोध्या का सफर होगा आसान, रफ्तार भरेगी बुलेट ट्रेन

bullet train दिल्ली से अयोध्या का सफर होगा आसान, रफ्तार भरेगी बुलेट ट्रेन

नई दिल्ली: भारत में बुलेट ट्रेन की शुरुआत 2024 के लोकसभा चुनाव के पहले हो जाने की उम्मीद है। 2024 में बुलेट ट्रेन का गुराजत में ट्रयल रन किया जाएगा। लेकिन जल्द ही देश के आठ और नए रूट पर ट्रेन चलाने की तैयारी है। जिसको लेकर प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो गया है। इनमें से दिल्ली से अयोध्या का रूट भी शामिल है। यानी भगवान राम की नगरी दिल्ली से पहुंचे में अब कुछ ही घंटे का वक्त लगेगा। तो वहीं दिल्ली-वाराणसी हाई स्पीड ट्रेन कॉरिडोर का सर्वे भी पूरा हो चुका है। जल्द ही इसकी फाइनल रिपोर्ट रेल मंत्रालय को सौंप दी जाएगी। कोशिश है कि इस रूट को भगवान राम की नगरी अयोध्या तक बढ़ा दिया जाए।

ये नए रूट हैं-

दिल्ली-वाराणसी
दिल्ली-अहमदाबाद
दिल्ली-अमृतसर
चेन्नई-बैंगलोर-मैसूर
मुंबई-नासिक
मुंबई-हैदराबाद
वाराणसी-कोलकाता
इसके अलावा मुंबई-नागपुर रूट के लिए लिडार सर्वे के जरिए काम शुरू भी हो चुका है.

तीन घंटे में पहुंचेगी अयोध्या

अयोध्या और दिल्ली के बीच शुरू होने वाली हाई स्पीड बुलेट ट्रेन सिर्फ 3 घंटे में ही 930 किमी की दूरी तय कर लेगी। अगर अब सुबह 9 बजे दिल्ली से अयोध्या के लिए निकलते हैं तो आप दोपहर 12 बजे तक अयोध्या पहुंच जाएंगे। और राम लाल के दर्शन उसी दिन कर सकते हैं। साथ ही उसी दिन वापसी भी हो सकती है।

गुराजत में चल रहा है काम

हाईस्पीड बुलेट ट्रेन के लिए गुजरात में पिछले साल से ही जोरों से काम शुरू हो चुका है। पूरे प्रोजेक्ट में से गुजरात के हिस्से में 351 किलोमीटर का हिस्सा आता है, जिसमें से 325 किलोमीटर के हिस्से में काम शुरू हो चुका है। इस प्रोजेक्ट पर काम कर रही नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन के मुताबिक, उम्मीद की जा रही है कि 2024 तक इस लाइन पर हाई स्पीड ट्रेन का ट्रायल रन शुरू हो जाएगा।

गुजरात में 95% ज़मीन का अधिग्रहण पूरा

वड़ोदरा हाईस्पीड ट्रेन के स्टेशन का टेंडर मई के पहले सप्ताह में दे दिया जाएगा, जिसके बाद यहां काम भी शुरू हो जाएगा। इस साल के अंत तक अहमदाबाद के साबरमती से लेकर वलसाड़ के वापी तक की बुलेट ट्रेन रेल लाईन से जुड़े सभी टेंडर अवार्ड कर दिए जाएंगे। राज्य में 95% ज़मीन का अधिग्रहण हो चुका है। महाराष्ट्र में जैसे ही ज़मीन अधिग्रहण 80% तक हो जाएगा, वहां भी सिविल के काम शुरू कर दिए जाएंगे।

Related posts

पत्थरबाजों की उल्टी गिनती शुरु

Breaking News

नौसेना के खेमे में शामिल हुई ‘तारिणी’…जानिए क्यों है ये नौका खास?

shipra saxena

विकास के साथ-साथ पर्यावरण संतुलन बनाए रखना हमारी प्राथमिकता है: SEIAA अध्यक्ष

Trinath Mishra