January 27, 2022 10:32 am
featured देश

Third wave: भारत में कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी! जानिए, अमेरिका वाले डॉक्टर ने ऐसा क्यों कहा?

कोरोना से जान गंवाने वाले कर्मियों के परिवारों को 50 लाख की सहायता

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर एक और जहां चिंता जताई जा रही है तो वहीं कई डॉक्टरों का कहना है कि तीसरी लहर अभी नहीं आएगी। क्या तीसरी लहर की आने की संभावना कम है और क्या तीसरी लहर दूसरी लहर से भी खतरनाक होगी? इन सब सवालों के जवाब आपको इस रिपोर्ट के जरिए बताते हैं।

भारत में कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी

कई विशेषज्ञों ने जब से तीसरी लहर की चेतावनी दी है भारत अपनी स्वास्थ्य सुविधाओं, खासकर बच्चों के लिए और टीकाकरण को बढ़ाने में लगा हुआ है। दूसरी लहर का कहर अभी भी खत्म नहीं हुआ है।  अप्रैल-मई में दूसरी लहर के दौरान मामले जिस तेजी के साथ आए और जो मौत का सिलसिला चला उससे हर किसी की रूह कांप उठी। अब लोगों को डर है कि क्या तीसरी लहर दूसरी लहर से भी खतरनाक होगी। क्या सितंबर अक्टूबर के महीने में तीसरी लहर आएगी या फिर नहीं इसको लेकर भी विशेषज्ञों और डॉक्टरों के अलग-अलग तथ्य सामने आ रहे हैं। इसी बीच अमेरिका के एक डॉक्टर रवि गोडसे ने कहा है कि तीसरी लहर नहीं आएगी।

‘भारत में कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी’

एक न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान रवि गोडसे ने कहा कि भारत में कोरोना की तीसरी लहर नहीं आएगी। उन्होंने इसको समझाते हुए कहा कि दूसरी लहर की वजह से भारत में तीसरी लहर नहीं आएगी। डॉक्टर रवि गोडसे का कहना है कि भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने जिस तरह हाहाकार मचाया है उससे ये साफ जाहिर है कि तीसरी लहर नहीं आएगी। डॉक्टर गोडसे ने केरल का उदाहरण देते हुए कहा कि अगर डेल्टा वेरिएंट इतना खतनाक है तो केरल से बाहर केस क्यों नहीं बढ़ रहे हैं।

लोगों की हर्ड इम्युनिटी बढ़ गई है- डॉक्टर गोडसे

वहीं डॉक्टर गोडसे ने कहा कि दूसरी लहर को लेकर वो गलत साबित हुए थे। लेकिन तब देश में वैक्सीनेशन नहीं हुआ था। उन्होंने कहा कि अब लोगों की हर्ड इम्युनिटी बढ़ गई है। ऐसे में कोरोना के फैलने के खतरा कम है। इसके साथ ही गोडसे ने ICMR को भी गलत बताते हुए कहा कि भारत में तीसरी लहर नहीं आएगी।

क्या सितंबर और अक्टूबर में आएगी तीसरी लहर ?

गृह मंत्रालय के बनाए हुए एक और विशेषज्ञों के समूह का कहना है कि तीसरी लहर सितंबर और अक्टूबर के बीच कभी भी आ सकती है और इसलिए टीकाकरण की गति को बढ़ाना बेहद आवश्यक है। देशभर में वैक्सीनेशन बड़ी तेजी के साथ आगे बढ़ाया जा रहा है। हिमाचल प्रदेश में 100 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। ऐसे ही कई शहरों में वैक्सीनेशन की दोनों डोज सभी लोगों को लग चुकी है।

कोविड -19 के कारण भारत में फंसे विदेशी, वीजा सितंबर अंत तक बढ़ाए गए

दूसरी लहर में डेल्टा वेरिएंट ने मचाया था कहर

दूसरी लहर में  जिस तरह से स्वास्थ्य सुविधाएं चरमराई, उसने एक गहरा निशान छोड़ दिया है। ऐसे में  कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि ये अक्टूबर में होगा और नवंबर में चरम पर पहुंचने का अनुमान है। लेकिन ये इस बात पर निर्भर करता है कि आगे चलकर कोई और घातक स्ट्रेन ना उभर जाए। कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएंट अब तक का सबसे खतरनाक वेरिएंट है। जिसने दूसरी लहर में भारत में तबाही मचाई और जब यहां पर मामले शांत हुए तो दूसरे देश इसकी जद में आ गए।

Related posts

बजट सत्र का दूसरा कार्यकाल शुरू, कार्ति के मामले में कांग्रेस को घेरगी बीजेपी

Vijay Shrer

ODI:इंग्लैंड की शानदार जीत, श्रृंखला 1-1 से बराबर

Saurabh

भारत बंद को लेकर योगी ने विपक्षी पार्टियों पर कसा तंज, भगवान उन्हें सद्बुद्धि दे

mahesh yadav