September 22, 2021 11:02 pm
featured भारत खबर विशेष

भानगढ़ के किले को भूतिया बनाने वाले सनकी तांत्रिक की कहानी…

bhangarth 1 भानगढ़ के किले को भूतिया बनाने वाले सनकी तांत्रिक की कहानी...

भारत का इतिहास राजाओं और महाराजाओं की कहानियों से पटा पड़ा है। सिर्फ इतिहास ही नहीं बल्कि जमीन भी इन राजाओं के होने का सबूत देती है। देश में आपको कई सारे किल, पुराने महल देखने को मिल जाएंगे। यही कारण है कि, विदेशी पर्यटकों की भीड़ की भीड़ इन किलों के बारे में जानने के लिए उमड़ पड़ती है। लेकिन भारत में एक ऐसा किला भी मौजूद है। जहां पर भूत वास करते हैं और इस बात सिर्फ स्थानीय लोग ही नहीं बल्कि भारत सरकार खुद भी मानती है। और इस किले का नाम है भानगढ़ का किला। इस किले बाहर आपको साफ-साफ लिखा हुआ मिल जाएगा कि सूर्यास्त के समय यहां पर रूकना वर्जित है। और इसका काराण है इस किले में मौजूद भूत- प्रेत।

bhangarth 2 भानगढ़ के किले को भूतिया बनाने वाले सनकी तांत्रिक की कहानी...
भारत का एक ऐसा किला, जहाँ प्रवेश करने वाले को पहले से ही चेतावनी दे दी जाती हो कि सूर्योदय के पहले और सूर्यास्त के पश्चात् इस किले के आस-पास भी न फटकें अन्यथा इस क्षेत्र में आप के साथ कुछ भी भयानक घट सकता है। माना जाता है की भानगढ़ के इस किले और आस-पास के क्षेत्र में भूत प्रेतों का बसेरा है।

भारतीय पुरातत्व विभाग ने इस खंडहर को संरक्षित कर दिया है। यहाँ पर महत्वपूर्ण बात ये है की वैसे तो पुरातत्व विभाग ने हर संरक्षित क्षेत्र में अपने ऑफिस बनवाये हैं लेकिन इस किले के संरक्षण के लिए पुरातत्व विभाग ने अपना ऑफिस भानगढ़ से कुछ किलोमीटर दूर बनवाया है।
कहा जाता है इस जगह पर एक राजकुमारी रहती थी जिसका नाम रत्नावती था।एक धूर्त जादूगर उसे अपनी पत्नी बनाना चाहता था।उसने कई बार राजकुमारी पर अपनी तंत्र विद्द्या चलाई और उसे काबू में करना चाहा।लेकिन राजकुमारी भी तंत्र विद्द्या की ज्ञाता थीं और उसने जादूगर के हर वार को विफल करके उसे हरा दिया और उसकी हत्या कर दी। मरते हुए जादूगर ने श्राप दिया कि ‘अगर मैं नहीं तो तुम भी नहीं और ना ही तुम्हारी यह प्रजा। ‘

कहा जाता है कि रातों -रात पूरी जगह खाली कर दी गई थी और अगले ही दिन एक भयंकर तूफ़ान ने पूरे शहर को तबाह कर डाला और इसके एक वर्ष बाद एक युद्ध में रत्नावती की मृत्यु हो गई। इस जगह पर अगर कोई स्थान आजतक सुरक्षित है तो वो है यहाँ पर स्तिथ मंदिर। लोग दिन के समय मंदिर में दर्शन करके आते हैं लेकिन अँधेरा होने के बाद कोई भी अंदर नहीं जाता है।

https://www.bharatkhabar.com/aap-mla-tahir-hussain-got-this-big-shock-from-karkardooma-court/
इसी कारण से लोग इस किले में नहीं जाते है और भारत सरकार ने इस भूतिया किले से किसी को नुकसान न हो इसलिए रात में जाने पर पूरी तरह से बैन लगाया हुआ है।

Related posts

उत्तर प्रदेश की सड़कें 15 नवंबर 2021 तक होंगी गड्ढा मुक्त, सीएम योगी ने दिए निर्देश

Neetu Rajbhar

बीएचयू मामला: पीएम को ज्ञापन सौंपने जा रहे थे छात्र, पुलिस ने हिरासत में लिया

Pradeep sharma

भारतीय थलसेना का एक चीता हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, दो पायलट की मौत

Trinath Mishra