September 21, 2021 10:04 pm
Uncategorized बिज़नेस

म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने वालों पर टूटी आफत, अगर आपका भी पैसे फंसा है तो ये खबर जरबर पढ़ें..

महामारी कोरोना पूरी दुनिया पर आफत बनकर टूट रही है। इसका असर जान के साथ-साथ माल पर भी पड़ता हुआ साफ दिख रहा है। कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चरमर्रा गई है।
ऐसी ही एक बुरी खबर म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने वालों के लिए आयी है।
फ्रेंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड ने अपनी स्कीम्स में से छह को कोरोना के चलते बंद करने का फैसला किया है। इन सभी का ऐसट बेस 25,856 करोड़ रुपये है। कंपनी ने इन्हें बंद करने के पीछे कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन को बताया है। कंपनी का का कहना है कि इस माहौल में तेजी से निवशकों ने पैसा निकाला है।ऐसे में कंपनी के पास पैसों की तंगी हो गई है। जिसकी वजह से न चाहते हुए भी अब कंपनी को अपनी स्किम्स को बंद करने का फैसला लिया है।
जानिए किन 6 स्किम्स को बंद किया गया है?
1-फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन लो ड्यूरेशन फंड
2- फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन शॉर्ट बॉन्ड फंड
3- फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन शॉर्ट टर्म इनकम प्लान
4- फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन क्रेडिट रिस्क फंड
5- फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन डायनामिक एक्यूरियल फंड
6- फ्रेंकलिन इंडिया टेम्पलटन इनकम ऑपरच्यूनिटी फंड
क्या करें निवेशक?
एक्सपर्ट्स कहते हैं कि देश की 22 लााख करोड़ रुपये की म्युचूअल फंड्स इंडस्ट्री पर रिडम्पशन का दबाव अप्रैल में तेजी से बढ़ा है. फ्रैंकलिन इंडिया टेम्पलटन का ये फैसला निवेशकों में घबराहट लाएगी. ऐसे में निवेशक अन्य फंड्स से भी तेजी से पैसा निकाल सकते है।

fund 3 म्यूचुअल फंड में पैसा लगाने वालों पर टूटी आफत, अगर आपका भी पैसे फंसा है तो ये खबर जरबर पढ़ें..

क्या करें निवेशक?
स्कीम्स के अचानक बंद होने से निवेशकों के लिए पैसा निकालने पर ब्रेक लग जाता है, जब तक कि म्युचूअल फंड कंपनी अपनी सभी होल्डिंग को समाप्त कर पैसा नहीं जुटा लेती है।
अगर आपने किसी भी फंड में पैसा लगाया हैं, तो इसका मतलब है कि अब आप रिडीम नहीं कर सकते हैं आपका पैसा और आपका निवेश इन फंडों में बंद है, जब तक कि फंड हाउस आगे भुगतान नहीं करता है।

https://www.bharatkhabar.com/traders-to-launch-e-commerce-platform-challenge-to-amazon-flipkart/
अगर किसी भी तरह की कोई परेशानी हो तो इसकी शिकायत बाजार नियामक सेबी के पास कर सकते है। जब सेबी को आपकी शिकायत मिलती है तो वह स्वतः इस मामले को संबंधित म्यूचुअल फंड कंपनी के पास ले जाता है और इसका समाधान होने तक इसका फॉलो-अप करता रहता है। भारत सरकार की तरफ से निवेशकों के फंसे पैसे निकालने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं।
फिलहाल आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है कंपनी आपको पैसा कभी न कभी जरूर लौटा देगी। लेकिन इसके लिए आपको कंपनी का फोलोअप लेना पड़ेगा।

Related posts

चित्रकूट के बाद अब लखनऊ में होगी RSS की बड़ी बैठक

Shailendra Singh

आजमगढ़ में पुलिस मुठभेड़, दो बदमाश और एक पुलिसकर्मी घायल

Rani Naqvi

इंडोनेशिया में भड़का ज्वालामुखी, जारी किया गया अलर्ट

Ravi Kumar