ईरान कोरोना वायरस से बचने के चक्कर में अफवाहों में आकर जहरीली शराब पीने से ईरान में 600 से ज्यादा लोगों की मौत

तेहरान। कोरोना वायरस से बचने के चक्कर में अफवाहों में आकर नीट अल्कोहल (जहरीली शराब) पीने से ईरान में 600 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। इतनी बड़ी संख्या में हुई मौतों से ईरान में हाहाकार मचा हुआ है। 3000 लोग ऐसे भी हैं जिन्हें देश के विभिन्न अस्पतालों में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है। इनमें से कई की हालत अब भी नाजुक बनी हुई है। माना जा रहा है कि मौत का आंकड़ा अभी और बढ़ सकता है।

बता दें कि ईरान सरकार के न्यायिक प्रवक्ता गुलाम हुसैन एस्मेली ने बताया कि शराब का सेवन कोरोना वायरस का इलाज नहीं है। यह मानव शरीर के बहुत ही घातक है। उन्होंने यह भी कहा कि हमें बिलकुल ही अंदाजा नहीं था कि ऐसी अफवाह से इतनी बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो जाएगी।

वहीं ईरान के कई राजनेताओं ने इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। सरकारी न्यूज एसेंजी तस्नीम के अनुसार, इस मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि ऐसे हालात से ईरानी सरकार कड़ाई से निपटेगी।

हसन रूहानी की आईएमएफफ से इमरजेंसी फंड की अपील

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कोरोना वायरस से पैदा हुए हालात से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से पांच अरब डॉलर के इमरजेंसी फंड देने की मांग की है। रूहानी ने कहा कि मैं अंतरराष्ट्रीय संगठनों से अपील करता हूं कि वो अपनी जिम्मेदारी निभाएं। उन्होंने कर्ज देने में किसी प्रकार के भेदभाव से बचने की भी अपील की। रूहानी ने अमेरिकी प्रतिबंधों को आर्थिक और मेडिकल आतंकवाद बताया।

ईरान में लॉकडाउन नहीं, संसद की बैठक में फैसला

मंगलवार को ईरानी संसद की बैठक में बड़ी संख्या में पहुंचे सदस्यों ने देश में पूर्ण रूप से लॉकडाउन न करने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि इससे देश में बड़ी संख्या में नौकरियां खत्म होंगी। इसके अलावा देश की उत्पादकता पर भी नकारात्मक असर पड़ सकता है। हालांकि देश में यात्रा प्रतिबंधों के अलावा कई तरह से व्यवसायों को पहले ही बंद किया जा चुका है।

कोरोना के कारण 3872 लोग गवां चुके हैं जान

ईरान में कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण अबतक 3872 लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं 62589 लोग अब भी इससे संक्रमित हैं। सरकार ने बड़ी संख्या में लोगों को इलाज के लिए क्वारंटीन सेंटरों में रखा है।

कोरोना वायरस के बढ़त कहर को देखते हुए योगी सरकार का बड़ा फैसला, 30 अप्रैल तक के लिए यूपी के 15 जिले सील

Previous article

दोनों बेटियों शजा जोया के बाद शाहरूख के दोस्त और ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ के प्रोड्यूसर करीम मोरानी का हुआ कोरोना

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured