vrindavan kumbh 2021 2 पुलिस महानिरीक्षक हरिद्वार ने RSS से मांगा सहयोग, कहा पहले की तरह सहयोग करें

हरिद्वार में कुंभ मेले का आयोजन किया गया है। इस दौरान शाही स्नान पर काफी भीड़ के जुटने की आशंका है। 12 और 14 अप्रैल को शाही स्नान है जिसे लेकर उत्तराखंड पुलिस ने तैयारियां तेज कर दी हैं। शाही स्नान में भारी भीड़ होने की संभावना के चलते कई रूट डायवर्ट रहेंगे। जिसे लेकर पुलिस महानिरीक्षक हरिद्वार ने RSS से सहयोग मांगा है।

RSS से सहयोग की मांग

पुलिस महानिरीक्षक ने पत्र लिखकर RSS से सहयोग की मांग की है। पत्र में कहा गया कि जैसा सबको मालूम है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राष्ट्रीय सेवा का सर्वोपरि अनुशासित संघ है। और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा पूरे भारत में ही नहीं बल्कि उत्तराखंड राज्य में पूर्व में आयोजित हुए विभिन्न प्रकार के अंतरराष्ट्रीय आयोजनों जैसे 12 साल बाद आयोजित हुए नंदा देवी राजजात यात्रा, हिमालय कुंभ को सफल बनाने में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

WhatsApp Image 2021 04 08 at 12.20.48 पुलिस महानिरीक्षक हरिद्वार ने RSS से मांगा सहयोग, कहा पहले की तरह सहयोग करें
पुलिस महानिरीक्षक की RSS से अपील

संघ से अपील करते हुए कहा गया कि कुंभ मेला 2021 हरिद्वार के दौरान भीड़ नियंत्रण करने, यातायात प्रबंधन और करोना के इस चुनौतीपूर्ण समय में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की कुंभ मेला पुलिस को आवश्यकता है।

आगे लिखा गया कि इस संबंध में प्रांत प्रचारक और अन्य पदाधिकारियों से बात की गई है। अतः आपसे आशा है कि कुंभ मेला हरिद्वार के दौरान भीड़ नियंत्रण करने में आप पुलिस की सहायता जरूर करेंगे।

जाम हटाना सबसे बड़ी चुनौती होगी

शाही स्नान के चलते उत्तराखंड पुलिस के सामने सबसे बड़ी समस्या जाम को लेकर होगी। इसके लिए पुलिस ने तैयारियां तेज कर दी हैं, पुलिस गढ़वाल और कुमाऊं जाने वाले लोगों से हरिद्वार के बजाए अन्य वैकल्पिक रास्तों का उपयोग करने की सलाह दे रही है।

3 दिन हैं शाही स्नान

बता दें 12 अप्रैल को सोमवती अमावस्या, 13 अप्रैल को चैत्र शुक्ल प्रतिपदा का स्नान है, जबकि 14 अप्रैल को मेष संक्रांति और बैसाखी का शाही स्नान है। इसलिए इन तीनों दिनों में काफी भीड़ उमड़ने की उम्मीद जताई जा रही है। वहीं पिछली बार महाकुंभ में बैसाखी के स्थान पर 1 करोड़ से ज्यादा श्रद्धालु स्नान करने हरिद्वार आए थे।

मरीजों की गलत डेटा फीडिंग से कोरोना हो रहा खतरनाक

Previous article

पंचायत चुनाव के लिए नाम वापसी की प्रक्रिया खत्म, जानिए कितने उम्मीदवार हैं मैदान में

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured