January 28, 2023 2:17 am
featured मध्यप्रदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अगर संविधान समझ नहीं आता तो किसी पढ़े लिखे इंसान से पढ़वाएं: राहत इंदौरी

मध्य प्रदेश 1 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अगर संविधान समझ नहीं आता तो किसी पढ़े लिखे इंसान से पढ़वाएं: राहत इंदौरी

इंदौर। मशहूर शायर राहत इंदौरी ने तंज कसते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहा है कि उन्हें किसी शिक्षित व्यक्ति से देश का संविधान पढ़वाकर समझने की कोशिश करनी चाहिए कि इसमें क्या लिखा है और क्या नहीं। इंदौरी ने यह बात संशोधित नागरिकता कानून राष्ट्रीय नागरिक पंजी और राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी के खिलाफ पिछले कई दिनों से शहर के बड़वाली चौकी इलाके में जारी विरोध प्रदर्शन के मंच से गुरुवार रात कही। इस मंच से 70 वर्षीय शायर के संबोधन के विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं।

इंदौरी ने कहा, ‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दरख्वास्त करना चाहूंगा कि अगर वह संविधान पढ़ नहीं पाए हैं, तो किसी पढ़े-लिखे आदमी को बुला लें और उससे संविधान पढ़वाकर समझने की कोशिश करें कि इसमें क्या लिखा है और क्या नहीं।’ उन्होंने सीएए, एनपीआर और एनआरसी के मुद्दों पर दिल्ली के शाहीन बाग और इंदौर के अलग-अलग इलाकों में जारी विरोध प्रदर्शनों का जिक्र करते हुए कहा, ‘यह लड़ाई भारत के हर हिंदू, मुस्लिम, सिख और ईसाई की लड़ाई है। हम सबको मिलकर यह लड़ाई लड़नी है।’ फैज अहमद फैज की नज्म ‘हम देखेंगे, लाजिम है कि हम भी देखेंगे’ को एक धर्म विशेष के खिलाफ बताए जाने के विवाद की ओर सीधा इशारा करते हुए इंदौरी ने कहा कि कुछ लोगों ने फैज की इस रचना का मतलब ही बदल दिया।

राहत इंदौरी ने कहा, ‘मुझे फैज की नज्म का मतलब बदले जाने पर अचंभा नहीं हुआ, क्योंकि ऐसा करने वाले लोग कम पढ़े-लिखे हैं। वे न तो हिंदी जानते हैं, न ही उर्दू।’ इंदौरी ने सीएए विरोधी मंच से अपनी अलग-अलग रचनाओं समेत यह मशहूर शेर भी सुनाया, ‘सभी का खून है शामिल यहां की मिट्टी में, किसी के बाप का हिंदोस्तान थोड़ी है।’ उन्होंने कहा कि यह बात अफसोसजनक है कि उनके इस शेर को मीडिया और कुछ लोगों ने केवल मुसलमानों से जोड़ दिया है, जबकि इस शेर का ताल्लुक हर उस भारतीय नागरिक से है जो अपनी मातृभूमि के लिए जान तक कुर्बान करने का जज्बा रखता है।

Related posts

Kanpur: सीएम योगी कानपुर में बनवाएंगे देश का पहला लेदर पार्क, विश्व स्तर पर होगा निर्यात

Shailendra Singh

कट्टरपंथियों के आगे इमरान खान ने टेके घुटने कृष्ण मंदिर पर लगाया बैन..

Mamta Gautam

केजरीवाल का रेलवे स्टेशन पर विरोध, महिलाओं ने दिखाई चूड़ियां

shipra saxena