रिस्पा नदी के मुद्दे पर सीएम ने की अधिकारियों के साथ बैठक

देहरादून। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत  ने शनिवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैम्प कार्यालय में रिस्पना नदी के पुनरोद्धार के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि रिस्पना से ऋषिपर्णा बनाने का कार्य मिशन मोड़ में होना चाहिए। ये कार्य जन सहयोग से पूरा किया जायेगा। रिस्पना के उद्गम से संगम तक ट्रेंचेंज का कार्य एक दिन में पूर्ण किया जायेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इसकी लिए शीघ्र तिथि निर्धारित की जाए। रिस्पना नदी पर वृक्षारोपण एवं सफाई का कार्य भी जन सहयोग से जुलाई माह के द्वितीय सप्ताह में एक ही दिन में पूर्ण हो सके यह भी सुनिश्चित किया जाए।
सीएम त्रिवेन्द्र ने कहा कि रिस्पना के पुनर्जीवीकरण के लिए जनसहयोग लिया जायेगा। अलग-अलग संस्थाओं से भी आर्थिक सहयोग लिया जाएगा। उन्होंने इसके लिए एक ट्रस्ट बनाने के लिए कहा। मिशन ऋषिपर्णा के लिए सबको तन, मन एवं धन से सहयोग करना होगा। इस मिशन में विभिन्न संस्थाओं एवं  शिक्षण संस्थाओं को भी शामिल किया जायेगा। उन्होंने कहा कि रिस्पना के पुनर्जीवीकरण के लिए बनाये गये सेक्टरों को सब सेक्टरों में भी विभाजित किया जाय। ताकि सब सेक्टर वाइज वृक्षारोपण, सफाई एवं ट्रेंचेज बनाने का टारगेट पूरा हो सके। उन्होंने कहा कि इस कार्य को एक दिन में पूरा करने के लिए कम से कम 25 हजार लोगों के सहयोग की आवश्यकता होगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि रिस्पना नदी पर विभिन्न प्रजातियों के वृक्ष लगाये जायें। जिसमें फलदार वृक्ष, चारा प्रजाति के वृक्ष एवं नेपियर घास की प्रजाति को प्राथमिकता दी जाय। उन्होंने कहा कि इस अभियान को पूरा करने के लिए व्यापक स्तर पर जन जागरूकता लाई जाए।बैठक में जिलाधिकारी देहरादून श्री एस.ए. मुरूगेशन ने कहा कि रिस्पना नदी के पुनर्जीवीकरण के लिए पूरे क्षेत्र में 15 सेक्टर बनाये गये हैं। इस कार्य हेतु ईको टास्क फोर्स, वन विभाग, सिंचाई विभाग, जल निगम, नगर निगम एवं एमडीडीए द्वारा कार्य योजना बनाई जा चुकी है। बैठक में वित्त मंत्री श्री प्रकाश पंत, मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह, प्रमुख सचिव श्री आनन्द वर्द्धन, सचिव श्री अरविन्द सिंह ह्यांकी, उपाध्यक्ष एमडीडीए श्री आशीष कुमार श्रीवास्तव, नगर आयुक्त श्री विजय कुमार जोगदंडे एवं सम्बन्धित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।