22 बच्चे ने गलती से पिया तेजाब फिर हुआ खतरनाक हादसा

नई दिल्ली। तेजाब से होने वाले नुकसान के बारें में तो आपने खूब सुना होगा और किस कदर तैजाब आपको नुकसान पहुंचा सकता हैं यें भी आप बखूबी जानते हैं इसलिए आप सभी घर में तेजाब बहुत की शतर्कता के साथ रखते हैं क्योकि अगर आपके घर में किसी बच्चें के हाथ यें लग गया तो कितना नुकसान हो सकता हैं इसका अंदाजा आप इस घटना से लगा सकता हैं जो हम आपको बताने जा रहे हैं। हरियाणा के नूंह में 10 साल के समीर ने अनजाने में बोतल में रखे तेजाब को पानी समझकर पी लिया। जिसकी वजह से उसकी भोजन नली जल गई और सिकुड़ कर खराब हो गई जिसके बाद परिवार वालें समीर को इलाज के लिए दिल्ली के आरएमएल अस्पताल लेकर पहुंचे जहां डॉक्टरों ने बच्चे के आमाशय (स्टमक) से भोजन नली बनाकर उसे नई जिंदगी दी हालाकिं अब उसे छुट्टी दे दी गई।

22 बच्चे ने गलती से पिया तेजाब फिर हुआ खतरनाक हादसा

कैसे लगा बच्चे के हाथ तेजाब

पीड़ित बच्चे समीर के पिता कार मैकेनिक हैं। वह जंग छुड़ाने के लिए तेजाब का इस्तेमाल करते हैं। इसलिए उन्होंने घर में फ्रिज के ऊपर पानी के बोतल (प्लास्टिक) में तेजाब रखा था। समीर ने बताया कि वह स्कूल से घर आया तो प्यासा था। फ्रिज के ऊपर बोतल देखा तो लगा कि पानी है। उसे उठाकर पी लिया। एक घूंट पीते ही ऐसा लगा कि गले के अंदर का हिस्सा जल गया।

नौ साल बाद खाया खान

परिजनों के अनुसार, इस घटना के 8-10 मिनट बाद उसे खून की उल्टी होने लगी। यह घटना करीब डेढ़ साल पहले की थी। घटना के बाद परिजन उसे नजदीक के अस्पताल में लेकर गए। वहां इलाज के बाद उल्टी बंद हो गई। इसके बाद डॉक्टरों ने उसे ठीक होने की बात कहकर वापस घर भेज दिया। तीन-चार दिन तक हलका खाने के बाद भोजन नली जाम हो गई। तब घटना के करीब डेढ़ महीने बाद परिजन इलाज के लिए आरएमएल अस्पताल पहुंचे।

भोजन नली को गले तक बनाया गया

समीर को जब अस्पताल ले जाता गया तो उसका वजन 13 किलोग्राम था उसके स्वास्थ्य में लगातार गिरावट हो रही थी। इसलिए पहले उसे पेट में ट्यूब डालकर आहार देना शुरू किया गया। इससे बच्चे का वजन बढ़कर 20 किलोग्राम पहुंच गया। 27 फरवरी को सर्जरी कर आमाशय से गले तक भोजन नली बनाई गई। आमाशय पेट की बड़ी थैली होती है। उसे बीच से दो हिस्सों में बांट दिया गया। एक हिस्से को स्टिच कर दिया गया। वह आमाशय के रूप में काम करता रहेगा। अलग किए गए दूसरे हिस्से को खींचकर छाती के रास्ते ले जाकर गले में जोड़ा गया है। हालांकि अभी उसे मुंह की नली से जोड़ने के लिए एक और छोटी सर्जरी करनी पड़ेगी। तब वह खुद से भोजन करने लगेगा। फिलहाल उसे पेट में लगे ट्यूब के माध्यम से ही आहार दिया जा रहा है।
तो देखा आपने कि तेजाब आपके घर में किस तरह से नुकसान पहुंचा सकता हैं तो अगर आपके घर में भी कुछ ऐसी चीज हैं जो आपके बच्चें के लिए हानिकारक साबित हो सकता हैं तो जल्द से जल्द उसे बच्चों से दूर रखें जिससें आप अपने परिवार को सुरक्षित रख सकें।

अन्ना का अनिश्चितकालीन अनशन शुरू, मागें पूरी करवाए बिना नहीं उठूंगा

Previous article

”AAP” विधायकों को मिली राहत, कोर्ट ने दिए ईसी को दोबारा जांच के आदेश

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.