8faac561 632b 454c afd4 35a7d2d1af40 आंदोलनकारियों ने पंजाब में 63 टावरों को बनाया निशाना, COAI ने की इसकी कड़ी निंदा
प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली। कृषि कानून के विरोध में किसान आंदोलन को आज 35वां दिन है। किसान अपनी मांगों को लेकर दिल्ली के चारों ओर अड़े हुए है। किसानों का कहना है कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं हो जाती है तक तक हम यहीं डटे रहेंगे। इसी बीच आज किसान संगठनों और सरकार के बीच फिर एक बार वार्ता होने जा रही है। इसके साथ ही कृषि कानून का विरोध देश के हर राज्य, हर क्षेत्र में हो रहा है। कृषि कानून के विरोध में लोगों के भारी आक्रोश को देखा जा सकता है। जिसके चलते पंजाब के किसानों ने कृषि कानून के विरोध में मोबाइल टावर को निशाना बनाया है। प्रदर्शनकारियों द्वारा यहां जमकर तोड़फोड़ की जा रही है। इसी बीच सेलुलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (COAI) के डीजी एसपी कोचर ने निंदा की है। हीं पंजाब सरकार ने ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है।

जियो के राज्य में 9,000 से अधिक टावर हैं-

बता दें कि एसपी कोचर ने एक बयान में कहा है कि हम किसी भी मुद्दे पर लोगों के विरोध करने के अधिकार का सम्मान करते हैं। लेकिन दूरसंचार नेटवर्क के बुनियादी ढांचे में तोड़फोड़ करने और किसी के जरिए विरोध के रूप में दूरसंचार सेवाओं को बाधित करने की कड़ी निंदा की जाती है। टेलीकॉम सेवाएं लाखों ग्राहकों की जीवन रेखा हैं। जिनमें ऑनलाइन कक्षाएं लेने वाले छात्र, घर से काम करने वाले पेशेवर, कोविड-19 के कठिन समय में ऑनलाइन स्वास्थ्य परामर्श के लिए जाने वाले लोग शामिल हैं। दूरसंचार सेवाओं को बाधित करने से आम आदमी को काफी असुविधा हो रही है। सूत्रों ने कहा कि मंगलवार को 63 टावर को नुकसान पहुंचाया गया। पिछले कुछ दिन के दौरान जिन टावरों को नुकसान पहुंचाया गया है उनमें से कुछ की जियो ने मरम्मत कर दी है। अमृतसर, बठिंडा, चंडीगढ़, फिरोजपुर, जालंधर, लुधियाना, पठानकोट, पटियाला और संगरूर आदि स्थानों पर टावर को नुकसान पहुंचाया गया। जियो के राज्य में 9,000 से अधिक टावर हैं। वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पुलिस को मोबाइल टावर को निशाना बनाने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया था। जानकारी के मुताबिक अब तक 1500 से ज्यादा टावर को नुकसान पहुंचाया जा चुका है।

कृषि कानूनों का सबसे अधिक फायदा मुकेश अंबानी और गौतम अडानी को होगा- किसान

तीन नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों और उनका समर्थन कर रहे लोगों की ओर से पंजाब में मोबाइल टावर को निशाना बनाया जा रहा है। वहीं पंजाब सरकार ने ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है। किसानों का मानना है कि इन कृषि कानूनों का सबसे अधिक फायदा मुकेश अंबानी और गौतम अडानी को होगा। इसी वजह से अंबानी की दूरसंचार कंपनी के टावर किसानों के निशाने पर हैं। हालांकि, रिलायंस समूह और अडानी समूह की कंपनियां किसानों से अनाज खरीदने के कारोबार में नहीं हैं।

 

विधानसभा चुनाव से पहले यूपी में हुई सियासत तेज, अनिल राजभर ने ओपी राजभर पर बोला हमला

Previous article

महाराष्ट्र सरकार ने 31 जनवरी, 2021 तक बढ़ाए लॉकडाउन के प्रतिबंध, राज्य से की ये अपील

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.