90 हजार टैक्स चोरों पर सरकार की नजर कारवाई तय

नोटबंदी के बाद जिसने बैंक में 10 लाख रुपये से ज्यादा की राशि जमा की थी। इनमें से 90 हजार से भी ज्यादा लोग आयकर विभाग के रडार पर हैं। इन लोगों ने 31 मार्च,2018 तक आयकर रिटर्न फाइल नहीं किया है। सरकार अब इनके खिलाफ एक्शन की तैयारी कर रही है।

 

प्रताकात्मक फोटो

 

गौरतलब है कि इनकम टैक्स रिटर्न फाइल न करने वाले 3 लाख लोगों को विभाग ने नोटिस जारी किया था।बिजनेसलाइन ने आयकर विभाग के एक अध‍कारीके हवाले से लिखा कि इन 3 लाख लोगों में से तकरीबन 2.1 लाख लोगों ने 31 मार्च, 2018 तक आईटीआर फाइल कर दिया था। लेकिन इनमें से जिन लोगों ने इस तारीख तक आईटीआर फाइल नहीं किया है, उनके अब एक्शन लिया जाएगा।

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार 11वीं बार गिरावट देखने को मिली

ऑपरेशन क्लीन मनी के तहत आयकर विभाग ने 22.69 लाख लोगों का पता लगाया है, जिनकी टैक्स प्रोफाइल नोटबंदी के दौरान उनकी तरफ से जमा की गई रकम से मेल नहीं खाती थी।
नोटबंदी के बाद इन लोगों ने 5.27 लाख करोड़ रुपये बैंक अकाउंट में जमा किए थे।हालांकि नोटबंदी के दौरान कितनी आय है जो सरकार की जानकारी में नहीं है। बैंकों में जमा की गई, इसको लेकर आईटी विभाग अभी भी जांच कर ही रहा है।

PNB घोटाला: 13हजार करोड़ का घोटाला करने के बाद अब नीरव मोदी ब्रिटेन में, मांग रहा है ‘शरण’

आईटीआर फाइल न करने वालों को आयकर विभाग की तरफ से नोटिस भेजा जा सकता है। इसके अलावा विभाग इनसे जुर्माना भी वसूल सकता है। यह जुर्माना कुल टैक्स देनदारी का 50 फीसदी या 200 फीसदी तक हो सकता है। इसके साथ ही  देरी से भुगतान करने पर लगने वाला चार्ज भी इन लोगों को भरना होगा। यही नहीं, आईटीआर फाइल न करने वालों के खिलाफ मुकदमा भी चलाया जा सकता है।