January 25, 2022 10:48 am
featured यूपी

भगवान राम के चरित्र से प्रेरणा लेनी चाहिए : रामनाथ कोविद

राम के चरित्र से प्रेरणा लेनी चाहिए

अयोध्या। राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने कहा कि भगवान राम के चरित्र से प्रेरणा लेनी चाहिए। रामायण और महाभारत में भारत की आत्मा के दर्शन होते हैं। पूरी दुनिया में रामायण का प्रभाव देखने को मिलता है। रामकथा के माध्यम से विश्व समुदाय के समक्ष मानव की मर्यादाओं को दर्शाया गया है।

राष्ट्रपति ने कहा कि मुझे अयोध्या आकर बेहद प्रसन्नता हुई है। रामचरित मानस की पंक्तियां लोगों में आशा का संचार करती हैं। प्रेरणा का संचार करती हैं और ज्ञान का प्रकाश फैलाती हैं। आलस्य एवं भाग्यवाद का त्याग करके कर्मठ होने की प्रेरणा अनेक चौपाइयों से मिलती है। उन्होंने कहा कि बिना राम के अयोध्या की कल्पना करना व्यर्थ है। अयोध्या तो वही है जहां राम थे। इस नगरी में प्रभु राम सदा के लिए विराजमान हैं। इसलिए यह स्थान सही अर्थों में अयोध्या है।
राष्ट्रपति ने कहा कि अयोध्या का अर्थ है, ‘जिसके साथ युद्ध करना असंभव हो’. रघु, दिलीप, अज, दशरथ और राम जैसे रघुवंशी राजाओं के पराक्रम व शक्ति के कारण उनकी राजधानी को अपराजेय माना जाता था, इसलिए इस नगरी का ‘अयोध्या’ नाम सर्वदा सार्थक रहेगा।

उन्होंने कहा कि रामायण में दर्शन के साथ-साथ आदर्श आचार संहिता भी उपलब्ध है जो जीवन के प्रत्येक पक्ष में हमारा मार्गदर्शन करती है। संतान का माता-पिता के साथ, भाई का भाई के साथ, पति का पत्नी के साथ, गुरु का शिष्य के साथ, मित्र का मित्र के साथ, शासक का जनता के साथ और मानव का प्रकृति व पशु-पक्षियों के साथ कैसा आचरण होना चाहिए, इन सभी आयामों पर, रामायण में उपलब्ध आचार संहिता, हमें सही मार्ग पर ले जाती है। रामचरितमानस में एक आदर्श व्यक्ति और एक आदर्श समाज दोनों का वर्णन मिलता है। रामराज्य में आर्थिक समृद्धि के साथ-साथ आचरण की श्रेष्ठता का बहुत ही सहज और हृदयग्राही विवरण मिलता है।
नहिं दरिद्र कोउ, दुखी न दीना।
नहिं कोउ अबुध, न लच्छन हीना।

ऐसे अभाव-मुक्त आदर्श समाज में अपराध की मानसिकता तक विलुप्त हो चुकी थी। दंड विधान की आवश्यकता ही नहीं थी। किसी भी प्रकार का भेद-भाव था ही नहीं: दंड जतिन्ह कर भेद जहँ, नर्तक नृत्य समाज। जीतहु मनहि सुनिअ अस, रामचन्द्र के राज॥

रामायण कान्क्लेव के माध्यम से कला एवं संस्कृति के माध्यम से जो अभियान प्रदेश सरकार ने शुरू किया है वह सराहनीय है। रामायण ऐसा विलक्षण ग्रंथ है जो रामकथा के माध्यम से विश्व समुदाय के समक्ष मानव जीवन के उच्च आदर्शों और मर्यादाओं को प्रस्तुत करता है। मुझे विश्वास है कि रामायण के प्रचार-प्रसार हेतु उत्तर प्रदेश सरकार का यह प्रयास भारतीय संस्कृति तथा पूरी मानवता के हित में महत्वपूर्ण सिद्ध होगा।

Related posts

अयोध्या में भूमि पूजन के दौरान भीड़ ना होने देने की तैयारी में जुटी यूपी सरकार

Rani Naqvi

उत्तराखंड 21वां स्थापना दिवस, सीएम पुष्कर धामी ने किए कई बड़े ऐलान

Neetu Rajbhar

किचन में सिंक की बदबू को ऐसे करें दूर, अपनाएं ये टिप्स

mohini kushwaha