WhatsApp Image 2021 02 06 at 5.14.01 PM सिद्धि पाने के लिए इस हद तक गिरी महिला, दिव्यांग ससुर की दे दी बलि
प्रतीकात्मक चित्र

कौशांबी। आज के समय में भी कुछ लोग तंत्र मंत्र के चक्कर में फंसकर अपना जीवन बर्बाद कर लेते हैं। इतना ही नहीं कभी-कभी ऐसी घिनोनी वारदातों को अंजाम दे देते हैं कि जिनसे समाज पर गहरा प्रभाव पड़ता है। ऐसा ही कुछ उत्तर प्रदेश के कौशांबी में देखने को मिला है, जहां एक बहु ने तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसकर अपने दिव्यांग बुजर्ग की हत्या कर दी। जिसके बाद इस घटना की जानकारी पुलिस को हुई थी तो मौके पर पहुंची पुलिस ने बहु को घटना का मुख्य आरोपी ठहराया। जिसके बाद पुलिस द्वारा पूछताछ में महिला ने कई खुलासे किए हैं। इसके साथ ही फिलहाल पुलिस ने आरोपी महिला को न्यायिक हिरासत में लेकर जेल भेज दिया है।

ये है पूरा मामला-

बता दें कि उत्तर प्रदेश के कौशांबी के अकराबाद गौहाली गांव में गुरुवार की रात घर के बाहर सो रहे दिव्यांग बुजुर्ग भगवान दास की गर्दन रेतकर हत्या कर दी गई थी। घटना के वक्त परिवार के अन्य लोग पड़ोस के गांव में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए गए थे। जिसके चलते जब सुबह परिजनों के लौटने पर घटना सामने आई तो पूरे गांव में हड़कंप मच गया। जिसके बाद घटना की जानकारी पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने जब जांच पड़ताल शुरू की तो उसे मृतक बुजुर्ग की बहू पर शक हुआ। क्योंकि घटनास्थल पर मिले पूजा-पाठ की सामग्री से पुलिस को बलि दिए जाने की आशंका हुई। जिसके बाद पुलिस ने वारदात के समय घर में मौजूद बहू को हिरासत में लेकर जब कड़ाई से पूछताछ की तो महिला ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए।

महिला का दावा उसके ऊपर देवी आती है-

इसके साथ ही पुलिस ने बताया कि महिला दावा करती थी उसके ऊपर देवी आती है, इसलिए वह तंत्र मंत्र में लीन रहती थी। देवी के आदेश से ही वह किसी भी काम को अंजाम देती है। उसके ससुर पिछले 3 सालों से लकवाग्रस्त थे। जिसके चलते महिला को उनकी सेवा करनी पड़ती थी। जिससे उसके तंत्र मंत्र की क्रिया में बाधा उत्पन्न होती थी। इस पूरे मामले पर महिला ने बताया कि उसने तंत्र-मंत्र क्रियाओं की सिद्धि के लिए अपने ससुर की हत्या कर दी।

किसान आंदोलनः टिकैत बोले- सरकार के पास 2 अक्टूबर तक का समय, अब होगी कंडीशनल बातचीत

Previous article

देशभर में शांतिपूर्वक खत्म हुआ चक्का जाम, धरनास्थल पर आज रात 12 तक हुई इंटरनेट सेवा बंद

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.