featured यूपी राज्य

नहरों की सफाई के लिए योगी सरकार चला रही है विशेष अभियान, जानिए इस अभियान से क्या होगा फायदा

yogi adityanath 6998322 835x547 m नहरों की सफाई के लिए योगी सरकार चला रही है विशेष अभियान, जानिए इस अभियान से क्या होगा फायदा

योगी सरकार ने राज्य के ग्रामीण इलाकों में वर्षाकाल के दौरान जलभराव की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए प्रदेश में बड़ी पहल की है। उसने नहरों (ड्रेन्स) की सफाई का प्रदेश भर में विशेष अभियान चलाया है। इसके लिए अतिरिक्त धन की व्यवस्था किए जाने के साथ पहले से कहीं अधिक दूरी तक नहरों की सफाई का लक्ष्य रखा गया है। 

नहरों की सफाई की जिम्मेदारी किसको मिली

प्रदेश सरकार ने इस अभियान की जिम्मेदारी सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग को सौंपी गई है। नहरों की सफाई से जलभराव के कारण होने वाली फसलों की क्षति रुकी है और अधिक उत्पादन से किसानों की आय में भी बढ़ोत्तरी हुई है। 

नहरों की सफाई के लिए बजट में की गई है बढ़ोतरी 

प्रदेश में लगभग 59212 किमी. लम्बाई की 10675 नहरें हैं जिनकी सफाई की जिम्मेदारी सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग की है। बता दें कि अभी तक कम धनराशि उपलब्ध होने के कारण प्रतिवर्ष मात्र लगभग 1500 से 1600 किमी. नहरों की सफाई हो पाती थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने समस्या आने पर उन्होंने वर्ष 2020-21 में नहरों की सफाई के लिए अतिरिक्त धन की व्यवस्था की। जिसके बाद वर्तमान वित्तीय वर्ष 2021-22 में कुल 23043 किमी. लम्बाई की ड्रेनों की सफाई का लक्ष्य रखा गया हैं। विभाग ने आज तक 15100 किमी. से अधिक दूरी तक ड्रेनों की सफाई करा ली है। इसकी लागत 185.00 करोड़ रुपये से अधिक आई है। जिन नहरों की सफाई का काम बचा है उसे वर्षाकाल के बाद पूरा करने का काम तेजी से किया जाएगा। 

किसानों के हित में सरकार करेगी काम

प्रदेश सरकार ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के साथ खेती और खलिहानी पर विशेष ध्यान दे रही है। इसके तहत उसने लॉकडाउन के दौरान भी किसानों को राहत देने के कई कार्य किये। ग्रामीण क्षेत्रों में साफ-सफाई और खेतों तक पानी पहुंचाने वाली नहरों की सफाई भी उसमें से एक है। ड्रेन्स की सफाई होने से पिछले साल ग्रामीण क्षेत्रों में जल भराव की समस्या नहीं हुई थी। इसको देखते हुए सरकार इस प्रक्रिया आने वाले वर्षों में भी अपनाने जा रही है। सभी नहरों को वर्षाकाल से पहले सफाई हो जाने से कृषि क्षेत्रों में जल भराव के कारण फसलों को क्षति की समस्या नहीं होगी और अधिक उत्पादन से कृषकों की आय में भी वृद्धि हो सकेगी।

 

Related posts

दो युवकों ने किया किशोरी के साथ दुष्कर्म, घटना के बाद मौके से आरोपी फरार

mahesh yadav

बीजेपी सांसद नंद कुमार सिंह चौहान का निधन, कल रात मेदांता अस्पताल में ली अंतिम सांसे

Aman Sharma

Jammu Kashmir: कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, तीन आतंकी मारे गए

Rahul