featured यूपी

बिना कोचिंग किए PCS-2019 टॉपर बने विशान, जानिए सफलता की कहानी

बिना कोचिंग किए PCS-2019 टॉपर बने विशान, जानिए सफलता की कहानी

मथुरा: उत्तर प्रदेश लोग सेवा आयोग (UPPSC) ने बीते बुधवार को प्रांतीय सिविल सेवा (PCS) 2019 का अंतिम रिजल्‍ट घोषित कर दिया। पीसीएस के 453 रिक्त पदों के मुकाबले 434 पदों पर अभ्यर्थियों का चयन किया गया, जिसमें मथुरा के विशाल सारस्‍वत ने टॉप किया।

यह भी पढ़े: सिपाही के दोनों जुड़वा बेटो का यूपीपीसीएस परीक्षा में चयन ,परिवार वालो में खुशी की लहर

जिले के कंकाली मंदिर स्थित प्रकाश नगर निवासी विशाल सारस्वत ने पीसीएस टॉप करके न सिर्फ अपने परिवार का मान बढ़ाया बल्कि पूरे मथुरा जिले का नाम रोशन किया। विशाल का यह उपलब्धि दूसरे प्रयास में हासिल हुई है। इससे पहले उन्‍होंने वर्ष 2018 में भी इंटरव्‍यू दिया था, लेकिन सफल नहीं हुए थे।

टॉप करने की नहीं, चयनित होने की थी उम्‍मीद

यह सफलता करने के बाद विशाल सारस्‍वत ने बताया कि मैंने टॉप करने के बारे में सोचा भी नहीं था। मुझे चयनित होने की उम्‍मीद थी। उन्‍होंने बताया कि मैंने नौकरी लगने की उम्‍मीद से तैयारी शुरू की थी। यह तैयारी मैं बिना कोचिंग के करता था।

विशाल सारस्‍वत की पढ़ाई

विशाल सारस्‍वत ने महाराष्‍ट्र में बुआ के पास रहते हुए साल 2011 में हाईस्‍कूल पास किया था। इसके बाद उन्‍होंने एटा के सेंटपॉल स्‍कूल से इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्‍तीर्ण की। फिर विशाल मथुरा अपने परिवार के पास लौट आए। विशाल ने बीएसए कॉलेज से ग्रेजुएशन और केआर डिग्री कॉलेज से अर्थशास्‍त्र में एमए किया।

प्रशासनिक सेवा में जाने का था मन  

विशाल शुरू से ही प्रशासनिक सेवा में जाना चाहते थे। सर्वोच्‍च प्रशासनिक सेवा हमेशा से उन्‍हें प्रभावित करती रहती थी, जिसके चलते विशाल ने सिविल परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी। वह कोचिंग नहीं जाते थे, बल्कि घर पर रहकर ही मन लगाकर पढ़ाई करते थे। इसी का नतीजा है कि उन्‍होंने दूसरी बार में पीसीएस परीक्षा में सफलता हासिल कर ली।

2018 में इंटरव्‍यू में सफल नहीं हुए  

विशाल सारस्‍वत ने इससे पहले वर्ष 2018 में पीसीएस की परीक्षा दी, लेकिन इंटरव्यू में सफल नहीं हो सके थे। मगर, विशान ने हिम्‍मत न हारते हुए लगन से प्रयास जारी रखा। इसके बाद वर्ष 2019 में पीसीएस मेन की परीक्षा दी और दिसंबर में आए रिजल्‍ट में उन्हें सफलता हासिल हुई। इसके बाद विशाल का उत्साह और बढ़ गया और आखिरकार विशाल ने इंटरव्यू में भी सफलता हासिल कर ही ली।

विशाल के परिवार में खुशी का माहौल

विशाल के पीसीएस में टॉपर बनने से परिवार और गांव में खुशी की लहर दौड़ गई। विशाल ने अपनी सफलता का श्रेय परिवार और दोस्‍तों को दिया। विशाल के बड़े भाई इसरो बेंगलूरू में कार्यरत हैं। उनके पिता शिव प्रकाश और मां राजेश्‍वरी सारस्‍वत प्रकाश नगर में रहते हैं। विशाल के घर पर उन्‍हें बधाई देने वालों का तांता लगा है। विशाल का कहना है कि अब वह नौकरी करते हुए देश हित में काम करना चाहते हैं।

Related posts

किताब ना खरीदना छात्राओं को पड़ा महंगा

piyush shukla

मध्यप्रदेश: हार के बाद भाजपा नेताओं का दर्द, विवादित बयान वायरल

Ankit Tripathi

अखिलेश यादव ने सरकार पर साधा निशाना, कहा- बड़े मिया तो बड़े मियांए छोटे मियां सुभान अल्लाह

Aman Sharma