December 1, 2022 5:55 am
Breaking News featured यूपी

वित्तविहीन शिक्षकों को सम्‍मानजनक वेतन दिलाना होगा हमारा पहला कर्तव्‍य: कांग्रेस

वित्तविहीन शिक्षकों को सम्‍मानजनक वेतन दिलाना होगा हमारा पहला कर्तव्‍य: कांग्रेस

लखनऊ: पूरे प्रदेश का समाज का हर तबका वर्तमान सरकार के तानाशाही रवैये से तंग आकर कांग्रेस की तरफ आशा भरी निगाह से देख रहा है। साढ़े चार साल के इस सरकार की कार्यकाल में केवल कांग्रेस लोगों के सुख-दुख में सड़क पर दिखी। इसलिए प्रदेश की जनता कांग्रेस के एक जिम्मेदार विपक्ष के रवैये को देखते हुए आशा भरी निगाह से देख रही है।

ये बातें सोमवार को उत्तर प्रदेश कांग्रेस शिक्षक प्रकोष्ठ की बैठक में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहीं। उन्‍होंने कहा कि, शिक्षकों के इस संगठन के माध्यम से हम पूरे प्रदेश के चाहे व बेसिक शिक्षक, माध्यमिक शिक्षक, उच्च शिक्षक, मदरसा शिक्षक, संस्कृत शिक्षक सभी को एकजुट करते हुए उनके समस्याओं को विधानसभा, विधान परिषद में उठाने के का काम करेंगे।

प्रदेश अध्‍यक्ष बोले- शिक्षकों-कर्मचारियों को दिलाएंगे पेंशन

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि, संगठन का विस्तार प्रमुख रूप से होना चाहिए क्योंकि शिक्षक समाज का महत्वपूर्ण अंग है। मुख्यरूप से वित्तविहीन शिक्षकों को सम्मान जनक वेतन दिलाना कांग्रेस का प्रथम कर्तव्‍य होगा। उन्‍होंने कहा कि, 2004 के बाद नियुक्त हुए सभी कर्मचारी एवं शिक्षक को पेंशन नहीं मिलने का आदेश हो चुका है। इस आदेश को समाप्त कराकर सभी शिक्षकों-कर्मचारियों को पेंशन दिलाना हमारा मुख्य कर्तव्य होगा।

वहीं, शिक्षक प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रभारी स्वप्निल कोठारी (इन्दौर) अपने संबोधन में कहा कि, हम उत्तर प्रदेश में संकल्पित होकर आये हैं कि सभी शिक्षकों को इस संगठन के बैनर तले जोड़ेंगे। शिक्षकों की छोटी-बड़ी हर लड़ाई में कांग्रेस अग्रणी भूमिका में होगी। इसके अलावा शिक्षक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार सिंह ने आए हुए सभी पदाधिकारियों का अभिनंदन करते हुए कहा कि, पूरे प्रदेश का दौरा कर शिक्षकों को एकजुट कर कांग्रेस को मजबूती दिलाना इस प्रकोष्ठ का उद्देश्य है।

प्रदेश के हर जिले में होगी बैठक

उन्‍होंने कहा कि, वित्तविहीन शिक्षक से संबंधित समस्याएं हमारे लिए प्रमुख हैं। मेरे कार्यकाल की यह पहली बैठक है। प्रदेश के हर जिले में हमारी बैठक होगी। ब्लॉक स्तर तक हम इस संगठन को लेकर जाएंगे। शिक्षकों का निजीकरण इस सरकार की मंशा है, जिसे हम किसी हाल में पूरा नहीं होने देंगे। शिक्षकों के हित के लिए हमारा संगठन हर संघर्ष में सदैव आगे होगा। बैठक को मुख्य रूप से कमलेश सिंह यादव, डॉ. मार्तण्ड सिंह, वकार हुसैन, मनीष कुमार द्विवेदी, डॉ. सुनील कुमार खजुरिया, डॉ. पवन कुमार पचौरी ने संबोधित किया।

Related posts

सीएम त्रिवेंद्र रावत ने पंचायती राज पर कार्यशाला का किया उद्घाटन

Trinath Mishra

भगोड़े नीरव मोदी के अच्छे दिन हुए खत्म, बाहर लाने की तैयारी शुरू..

Mamta Gautam

खादी,स्वच्छता,पर्यटन के साथ वीरांगनाओं का पीएम मोदी ने मन की बात में किया जिक्र

piyush shukla