September 23, 2021 10:15 am
featured उत्तराखंड

नौकरी का झांसा देकर देह व्यापार में धकेल देते थे, अब हुआ उत्तराखंड के इस बड़े सेक्स रैकेट का खुलासा

uttrakhand नौकरी का झांसा देकर देह व्यापार में धकेल देते थे, अब हुआ उत्तराखंड के इस बड़े सेक्स रैकेट का खुलासा

देश अक्सर सेक्स रैकेट का खुलासा होता रहता है। सेक्स रैकेट का एक नया मामला उत्तराखंड के चकराता और इसके पास कस्बे विकासनगर से सामने आया है।

देहरादून। देश अक्सर सेक्स रैकेट का खुलासा होता रहता है। सेक्स रैकेट का एक नया मामला उत्तराखंड के चकराता और इसके पास कस्बे विकासनगर से सामने आया है। उत्तराखंड का हरबर्टपुर में बहुत ही तेजी से देह व्यापार फैल रहा है। हाल ही में पुलिस की एक जांच में इसका खुलासा हुआ है। चकराता में जौनसर जाति के लोग रहते हैं। विकासनगर और हरबर्टपुर के बड़े हॉटलों में दिल्ला, पश्तिम बंगाल, यूपी और हरियाणा से महिलाएं सप्लाई के लिए लाई जाती है। इसके साथ इस धंधे में जुड़े लोग पास के अनपढ़ परिवारों को शिकार बनाते हैं। ये लोग इन गरीब परिवारों की लड़कियों को नौकरी दिलाने का झांसा देकर सेक्स रैकेट के काम में धकेल देते हैं।

सात महीने पहले चर्चा में आया मामला

बता दें कि अब से 7 महाने पहले इस तरह का मामला चर्चा में आया था। वहीं इस मामले में उत्तराखंड राज्य बाल अधिकारी संरक्षण आयोग की अध्यक्ष डीजीपी अनिल रतुड़ी को मामले में एक्शन लेने और महीने भर में रिपोर्ट दाखिल करने के निर्देश दिए गए हैं। 7 महीने पहले इस मामले का खुलासा उस वक्त हुआ जब रानी लेखा नाम की लड़की  ने अपने यहां चल रहे सेक्स रैकेट की शिकायत राष्ट्रीय महिला आयोग में की थी।

https://www.bharatkhabar.com/haryana-government-issued-guidelines-on-the-festival-of-janmashtami/

नौकरी का झांसा देकर इस धंधे में धकेल

वहीं लेखा ने आरोप लगाया था कि महिलाओं को नौकरी का झांसा देकर पहाड़ों से लाया जाता था  और उसके बाद उन छोटे क्षेत्र की लड़कियों को हॉटलों में चल रहे देह व्यापार में धकेल दिया जाता था। इसकी जानकारी राष्‍ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को दी गई। जिसके बाद आयोग को इस मामले को देखने के लिए कहा गया। राज्य आयोग ने 13 मई को जांच के आदेश दिए थे।

महिलाओं के शोषण के पीछे गरीबी बड़ी वजह

उत्तराखंड राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की चेयरपर्सन ऊषा नेगी ने कहा कि जिन महिलाओं का शोषण हुआ है वो ज्यादातर गरीब परिवार से हैं और उनके शोषण की असली वजह गरीबी है। उन्होंने कहा कि चकराता क्षेत्र खेतीके लिए जाना जाता वहां ज्यादातर खेती करने वाले लोग रहते हैं। जिसकी वजह से यहां नौकरी करने के ज्यादा मौके नहीं रहते। जिसके कारण नौकरी करने के लालच में शोषण का शिकार हो जाते हैं।  हमें इस तरह के क्षेत्रों में युवाओं के हुनर को उड़ान देने के लिए विकास करने की जरूरत है। वहीं डीआईजी अरूण ने कहा कि देह व्यापार को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे।

Related posts

सचिन के गुरू रमाकांत आचरेकर का निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक

Ankit Tripathi

बर्फबारी के चलते गायब हुए तीनों पर्यटक मिले

Rahul srivastava

लखनऊ में रैन बसेरे में घुसी कार, 10 लोगों को रौंदा

kumari ashu