ration card राशनकार्ड बनाने से तहसीलदार ने किया मना तो युवक ने लगाई ये तरकीब, पढ़कर ठहाके लगाने लगेंगे आप

कहते हैं घी अगर सीधी उंगली से न निकले तो उंगली टेड़ी करनी पड़ती है. इसी कहावत पर अमल किया है. महाराष्ट्र के युवक ने. जी हां, मामला यूं है कि बीड जिले के पाटोदा तालुका के धनगरजवड़का का रहने वाला एक आम आदमी अमित घनश्याम आगे ने राशन कार्ड बनवाने के लिए तहसीलदार के दफ्तर में आवेदन किया. लेकिन उसका आवेदन रद्द हो गया. आवेदन रद्द होने से अमित असमंजस में आ गया और इसी असमंजस को दूर करने के लिये अमित तहसीलदार के दफ्तर पहुंच गया.

पढ़ा-लिखा होने के बावदूज भी बेरोजगार है अमित
अमित तहसीलदार के दफ्तर पहुंच गया और अपने आवेदन के रद्द होने की वजह जानने की कोशिश की. जिसके बाद तहसीलदार ने उसे वो वजह बताई उसे सुनकर अमित हैरान हो गया. तहसीदार ने अमित से कहा कि वो शादीशुदा नहीं है इसलिये उसका राशन कार्ड नहीं बन सकता. यहीं नहीं बकायदा तहसील कार्यालय से उसे लिखकर दिया कि वह परिवार की व्याख्या में फिट नहीं बैठता.

बेरोजगारी की वजह से नहीं हो रहा विवाह- अमित
जिसके बाद अमित ने अधिकारी को बताया कि वो फिलहाल बेरोजगार है इसलिये उसकी शादी नहीं हो पा रही है और वो जिम्मेदारी उठाने में सक्षम नहीं है. लेकिन अमित को सफलता नहीं मिली और अधिकारियों ने उसका राशन कार्ड बनाने से मना कर दिया. अमित रोजाना तहसीदार कार्यालय के चक्कर लगाने लगा लेकिन उसका काम नहीं हुआ.

फिर टेड़ी उंगली से निकाला घी!
जब अमित का काम नहीं बना तो उनसे एक तरकीब सोची और एक दिन अमित दुल्हा बनकर बैंड-बाजे के साथ तहसील ऑफिस पहुंच गया. अमित को दुल्हे की ड्रेस में देख पूरा ऑफिस हक्का-बक्का रह गया. अमित ने तहसीलदार ने कहा कि आप मुझे राशनकार्ड दीजिए या फिर कोई अच्छी लड़की देखकर मेरी शादी करवा दीजिए. शादी होने पर मेरा परिवार भी होगा और राशनकार्ड भी मिल जाएगा.
जिसके बाद तहसीलदार ने हाथों-हाथ अमित को राशनकार्ड बनवाकर दिया.

मुश्किल में फंसे जोनस ब्रदर्स, जानें कौन हैं प्रियंका चौपड़ा के पति पर आरोप लगाने वाली महिला

Previous article

मथुरा में शर्मसार हुई इंसानियत, 8 साल की मासूम से पहले रेप फिर हत्या

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured