November 27, 2021 12:07 pm
featured शख्सियत

रविंद्र नाथ टैगौर का 159 वीं जयंती क्यों है खास?

ravinder 1 रविंद्र नाथ टैगौर का 159 वीं जयंती क्यों है खास?

आज गुरूओं के गुरू महागुरू रविंद्र नाथ टैगौर की 159 वीं जयंती है। गुरुदेव नाटककार, संगीतकार, चित्रकार, लेखक, कवि और विचारक थे।

ravinder 2 रविंद्र नाथ टैगौर का 159 वीं जयंती क्यों है खास?
इन्होंने ‘जन गण मन’ और ‘आमार सोनार बांग्ला’ की रचना की है, जो दो देशों भारत और बंगलादेश का राष्ट्रगान है। इनकी रचना गीतांजलि के लिए इन्हें 1913 में साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया गया। इनकी रचनाएं आज भी पढ़ी और गाई जाती हैं।

यही कारण है की रविंद्र नाथ टैगौर को गुरूओं का गुरू कहा जाता है। रविन्द्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई को 1861 को पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के मशहूर जोर सांको भवन में हुआ था।

इनके पिता का नाम देवेन्द्रनाथ टैगोर था, जो कि ब्रह्म समाज के नेता थे और माता का नाम शारदा देवी था। रविंद्र नाथ अपने भाई-बहन में सबसे छोटे थे। इन्हें बचपन से ही गायन, कविता और चित्रकारी में रुचि थी। यही कारण है की इन्हें देश ही नहीं दुनिया में भी जाना जाता है।

https://www.bharatkhabar.com/world-men-were-killed-more-than-women-from-corona/
‘गीतांजलि’ की रचना की, जिसके लिए 1913 में इन्हें साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया गया। ‘गीतांजलि’ दुनिया की कई भाषाओं में प्रकाशित किया गया। जिसे आज भी लोग पढ़ते और याद करते हैं। दुनिया को तमाम रचनाएं देने वाले बहुमुखी रविन्द्र नाथ टैगोर का 1941 में निधन हो गया।

Related posts

अमेरिका ने कहा : कश्मीर मुद्दे पर दोनों पक्ष आपसी बातचीत से निकालें हल

shipra saxena

वरुण धवन-नोरा फतेही की केमिस्ट्री से गर्मी गाने ने मचा दी धूम

Rani Naqvi

NHAI Recruitment 2021: NHAI ने निकाली डिप्टी मैनेजर के पदों पर भर्ती, लास्ट डेट 29 नवंबर

Rahul