Breaking News featured देश राज्य

कर्नाटक चुनाव में भी चलेगा राहुल का मंदिर दर्शन, लिंगायत समुदाय के मंदिर से की शुरुआत

raj 1a7508779 large कर्नाटक चुनाव में भी चलेगा राहुल का मंदिर दर्शन, लिंगायत समुदाय के मंदिर से की शुरुआत

नई दिल्ली। गुजरात चुनाव की तरह राहुल गांधी ने कर्नाटक चुनाव में भी हिंदू मतदाताओं को साधने के लिए अपने मंदिर दर्शन फॉर्मुले को अपनाया है, जिसके लिए राहुल कर्नाटक पहुंच गए हैं। बता दें कि कर्नाटक में मई के मध्य में चुनाव हो सकते हैं। राहुल गांधी ने मंदिर दर्शन की शुरुआत कोप्पल जिले में स्थित लिंगायत समुदाय के हुलीगेमा मंदिर से की। शाम को वे सिद्धवेश्वर मठ पहुंचे। इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने जनसभा को संबोधित किया। लिंगायत समुदाय के मंदिर से राहुल गांधी ने अपने कर्नाटक चुनाव का सफर इसलिए शुरू किया है क्योंकि राज्य की 18 फीसदी आबादी इसी समुदाय की है।

यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि जो आप लोगों से झूठे वादे करते हैं, झूठे सपने दिखाते हैं उन पर भरोसा करके आपको कोई फायदा मिलने वाला नहीं है। मोदी बैक मिरर देखकर ड्राइविंग कर रहे है, जिसमें हादसे होंगे। उन्होंने कहा कि संसद में पिछली सरकारों को कोसकर वे सिर्फ बैक मिरर में देखकर गाडी चला सकते हैं। वो अतीत को देखकर बोलते हैं और देश उनसे भविष्य के प्लान के बारे में जानना चाहता है। मोदी ने फ्रांस की कंपनी से राफेल सौदा किया और पेरिस जाकर डील ही बदल दी ये कांट्रैक्ट शुरू में एचएएल को दिया गया था लेकिन उन्होंने इसे खत्म कर दिया और अपने दोस्त को दे दिया।
raj 1a7508779 large कर्नाटक चुनाव में भी चलेगा राहुल का मंदिर दर्शन, लिंगायत समुदाय के मंदिर से की शुरुआत

बता दें कि राहुल गांधी ने अपने चुनावी अभियान की शुरुआत कांग्रेस की मजबूत पकड़ वाले कर्नाटक क्षेत्र से की है। इस इलाके में करीब 40 सीटों में से 23 पर फिलहाल कांग्रेस का कब्जा है। लिंगायतों को बीजेपी का वोट बैंक माना जाता है, इस इलाके के 6 जिलों में इसी समुदाय का दबदबा है। राहुल का लिंगायतों के बीच जाना इसलिए भी अहम है, क्योंकि सीएम सिद्धारमैया लिंगायतों के एक समूह को हिंदुओं से अलग धर्म की पहचान देने की वकालत कर चुके हैं। कांग्रेस की नजर लिंगायतों के साथ मुसलमानों, पिछड़ी जातियों और दलितों पर भी है।

आपको बता दें कि लिंगायत समुदाय ने हिंदू जाति व्यवस्था के खिलाफ आंदोलन छेड़ा था और वेदों को भी खारिज किया था और वे मूर्तिपूजा के खिलाफ थे। लिंगायत हिंदुओं के भगवान शिव की पूजा नहीं करते पर शरीर पर इष्टलिंग धारण करते हैं। ये अंडे के आकार की गेंदनुमा आकृति होती है, जिसे वे धागे से अपने शरीर पर बांधते हैं।  वहीं राहुल गांधी के कर्नाटक दौर को लेकर बीजेपी के सीएम उम्मीदवार वीएस येदियुरप्पा ने कहा कि राहुल गांधी सिर्फ चुनावी हिंदू हैं। उन्हें चुनाव के दौरान ही मंदिरों की याद आती है। इस पर सीएम के. सिद्धारमैया ने कहा जिन लोगों को राहुल गांधी का मंदिर जाना गलत लगता है, उन्हें कांग्रेस का इतिहास नहीं पता है।

Related posts

यूपी में उद्योग को बढ़ावा देने के लिए सीएम पहुंचे मुंबई, उद्योगपतियों को राज्य में निवेश के लिए कहा

Breaking News

अगर भारत – पाकिस्तान के बीच परमाणु युद्ध हुआ था तो 100 मिलियन से अधिक लोग गवां बैठेंगे अपनी जान

Rani Naqvi

कहां से आया कोरोना वायरस ? भारत भी चाहता है इसकी जांच हो

pratiyush chaubey