PM in Varanasi: रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर से पीएम मोदी का संबोधन LIVE

वाराणसीः अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन व लोकार्पण किया। जिसके बार रूद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर के बारे में अधिक जानकारी देने के लिए एक शॉर्ट फिल्म दिखाई गई।

ताजा अपडेट्सः

बनारस के तो रोम रोम से गीत संगीत और कला झरती है। यहाँ गंगा के घाटों पर कितनी ही कलाएं विकसित हुई हैं, ज्ञान शिखर तक पहुंचा है और मानवता से जुड़े कितने गंभीर चिंतन हुये हैं। इसीलिए, बनारस गीत-संगीत का, धर्म-आध्यात्म का और ज्ञान-विज्ञान का एक बहुत बड़ा ग्लोबल सेंटर बन सकता है: PM

पीएम मोदी ने कहा- अभी अपने पिछले कार्यक्रम में मैंने काशीवासियों से कहा था कि इस बार काफी लंबे समय के बाद आपके बीच आने का सौभाग्य मिला। लेकिन बनारस का मिजाज ऐसा है कि अरसा भले ही लंबा हो जाये, परंतु ये शहर जब मिलता है तो भरपूर रस एक साथ ही भरकर दे देता है।

कोरोनाकाल में जब दुनिया ठहर सी गई, तब काशी संयमित तो हुई, अनुशासित भी हुई, लेकिन सृजन और विकास की धारा अविरल बहती रही। काशी के विकास के ये आयाम, ये ‘इंटरनेशनल को-ऑपरेशन एंड कन्वेंशन सेंटर- रुद्राक्ष’ आज इसी रचनात्मकता का, इसी गतिशीलता का परिणाम है: PM

प्राइम मिनिस्टर श्री शुगा योशीहिदे जी उस समय चीफ़ कैबिनेट सेक्रेटरी थे। तब से लेकर पीएम की भूमिका तक, लगातार वो इस प्रोजेक्ट में व्यक्तिगत रूप से involve रहे हैं। भारत के प्रति उनके इस अपनेपन के लिए हर एक देशवासी उनका आभारी है: पीएम मोदी

आज के इस आयोजन में एक और व्यक्ति हैं, जिनका नाम लेना मैं भूल नहीं सकता। जापान के ही मेरे एक और मित्र- शिंजो आबे जी। मुझे याद है, शिंजों आबे जी जब प्रधानमंत्री के तौर पर काशी आए थे, तो रुद्राक्ष के आइडिया पर उनसे मेरी चर्चा हुई थी: PM

चाहे strategic एरिया हो या economic एरिया, जापान आज भारत के सबसे विश्वसनीय दोस्तों में से एक है। हमारी दोस्ती को इस पूरे क्षेत्र की सबसे natural partnerships में से एक माना जाता है: PM

भारत और जापान की सोच है कि हमारा विकास हमारे उल्लास के साथ जुड़ा होना चाहिए। ये विकास सर्वमुखी होना चाहिए, सबके लिए होना चाहिए, और सबको जोड़ने वाला होना चाहिए: PM

 

वहीं, रूद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उपहार देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ये सब महादेव के आशीर्वाद से संभव हो पाया है। काशी विश्वनाथ की कृपा से वाराणसी में विकास की गंगा बह रही है।

IRCTC की मदद से ट्रेन में लीजिए मनपसंद व्यंजनों का स्वाद, जानिए कैसे

Previous article

जमानत मिलने के बाद एंटीगा पहुंचा मेहुल चोकसी, 51 दिन तक जेल में रहा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured