January 31, 2023 6:20 am
featured देश

तिरुपति मंदिर ट्रस्ट ने जारी किया अपनी संपत्ति का ब्यौरा, जानकर आप हो जाएंगे हैरान

तिरुपति मंदिर तिरुपति मंदिर ट्रस्ट ने जारी किया अपनी संपत्ति का ब्यौरा, जानकर आप हो जाएंगे हैरान

आंध्र प्रदेश के तिरुपति मंदिर को भारत का सबसे अमीर मंदिर माना जाता है। इस मंदिर की कुल संपत्ति 2.3 लाख करोड रुपए आंकी गई है। 

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम ने कल यानी शनिवार को एक श्वेत पत्र जारी किया जिसमें उन्होंने तिरुपति मंदिर के कैश,जमा, सोने के आभूषण समेत कुल संपत्ति का ब्यौरा सार्वजनिक किया है। 

जारी पत्र के मुताबिक मंदिर की कुल संपत्ति 2.26 लाख करोड़ रुपए बताई जा रही है। जबकि 10.3 टन सोना जमा है। साथ ही सारी रिपोर्ट में सोशल मीडिया पर वायरल रिपोर्ट को सिरे से खारिज किया गया है जिसमें दावा किया गया है कि तिरुमल तिरुपति देवस्थान के अध्यक्ष और बोर्ड ने प्रदेश सरकार और भारत सरकार के ब्रांड के प्रतिभूतियों में इन्वेस्टमेंट करने का फैसला लिया है। 

10.3 टन सोना बैंक में जमा

तिरुपति मंदिर ट्रस्टी का कहना है कि मंदिर की अतिरिक्त रकम अनुसूचित बैंक में इन्वेस्ट की जाती है। वही एक प्रेस रिलीज में तिरुमाला तिरुपति देवस्थान ने यह कहते हुए अनुरोध किया था कि कि भक्तजन इस तरह के षड्यंत्रकारी एवं झूठे प्रचार पर विश्वास ना करें। क्योंकि हम कई बैंकों में कैश और सोना जमा करते हैं जो एकदम पारदर्शी है।

वहीं मंदिर ट्रस्टी का कहना है कि उनके पास राष्ट्रीयकृत बैंकों में 5300 करोड रुपए से अधिक का 10.3 टन सोना जमा है। साथ ही 15938 करोड रुपए नगद राशि के रूप में जमा है। 

3 साल में इतना हुआ फायदा 

तिरुमला तिरुपति देवस्थानम द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक टीटीडी के पास 2019 में 7.4 टन सोना जमा था। जिसमें बीते 3 साल में 2.9 का इजाफा हुआ है। बैंकों में जमा सोना बढ़कर 10.3 टन हो गया है।

कैसे होती है मंदिर की कमाई

जारी रिपोर्ट के मुताबिक मंदिर की कुल संपत्ति पूरे भारत में 7,123 एकड़ जमीन में फैली हुई है जिसमें 960 संपत्तियां सम्मिलित है। टीटीडी के बयान के मुताबिक देश के विभिन्न बैंकों में जमा नगद एवं सोना पूरी तरीके से पारदर्शिता के साथ किया जाता है। मंदिर की कुल आय भक्तों व्यवसायियों और संस्थाओं द्वारा दिए जाने वाले दान से प्राप्त होती है। 

Related posts

ब्रिटिश संसद में खारिज हुआ ब्रिक्जिट बिल, थेरेसा मे के सांसदों ने भी बिल के विरोध में की वोटिंग

mahesh yadav

देहरादून को साइंस सिटी के लिए मिलेंगी 190 करोड़ रूपये की राशि

Rani Naqvi

लखीमपुर खीरी हिंसा : प्रशासन और किसानों के बीच बैठक समाप्त, 45-45 लाख मुआवजे पर बनी सहमति

Neetu Rajbhar