कोरोना से बचाव के दृष्टिगत एकीकृत कोविड कमाण्ड सेन्टर चालू, डीएम ने अधिकारियों की लगाई ड्यूटी

गोंडा: जिले में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही अलर्ट हो गए हैं। उन्होंने करोना वायरस पर प्रभावी अंकुश लगाने व संक्रमण से बचाव के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए अधिकारियों की तैनाती कर दी है।

इसके अतिरिक्त संक्रमण से प्रभावित व्यक्तियों को बेहतर चिकित्सा उपचार की सुविधा देने के लिए कान्टैक्ट ट्रेसिंग में आए लोगों की जांच का कार्य पूरी गम्भीरता के साथ किए जाने का निर्देश दिया है।

इसके लिए डीएम ने इन्ट्रीगेटेड कोविड कमाण्ड सेन्टर को सक्रिय करते हुए मजिस्ट्रेट्स व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की तैनाती कर दी है। इसके साथ ही डीएम ने कोविड हेल्प लाइन नंबर 05262-230125, 230185 भी जारी कर दिया है।

तेजी से फैल रहा कोरोना: डीएम

जिलाधिकारी श्री शाही ने बताया कि जनपद में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है, जिससे बचाव व लोगों का जागरूक होना नितान्त आवश्यक है।

कोविड कन्ट्रोल के लिए कमाण्ड सेन्टर में अपर उपजिलाधिकारी महेन्द सिंह सहित हसन इफ्तेखार, महामारी विशेषज्ञ, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, डॉ. संदीप तिवारी, जिला कार्यक्रम प्रबन्धक, आयुष्मान भारत योजना, डॉ. देवराज, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी/जिला सर्विलांस अधिकारी एकीकृत कोविड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को नियुक्त किया गया है।

पोर्टल पर करें सूचनाओं का आदान-प्रदान

सभी अधिकारियों-कर्मचारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि कमाण्ड सेन्टर में प्रतिदिन सुबह आठ बजे से शाम आठ बजे तक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में स्थापित कोविड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर में उपस्थित रहकर जिला चिकित्सालय तथा जनपद के समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों से सूचनायें प्राप्त कर इन्हें नियमित रूप से पोर्टल पर फीड करेंगे तथा अपने पूरी टीम के साथ सुबह 8 बजे से शाम 08 बजे तक एकीकृत कोविड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर में उपस्थित रहकर सूचनाओं के संकलन तथा डाटा फीडिंग कार्य में महामारी विशेषज्ञ का सहयोग करेंगे।

पूरे मनोयोग से काम करें अधिकारी

जिलाधिकारी ने बताया कि इस कार्य में मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा समस्त अधीक्षक गण यह सुनिश्चित करेंगे कि कोविड संक्रमण से प्रभावित व्यक्तियों के कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग में लगाई गई टीमों द्वारा अपना कार्य पूरे मनोयोग एवं निष्ठा के साथ किया जाय तथा प्रत्येक मरीज के न्यूनतम 10 कान्टैक्ट ट्रेसिंग अनिवार्य रूप से करते हुए उनकी जांच करायी जाय।

उन्होंने चेतावनी दी है कि इसमें किसी प्रकार की लापरवाही को अत्यन्त गम्भीरता से लिया जायेगा। इसके अलावा डीएम ने महेन्द्र कुमार अपर उपजिलाधिकारी प्रथम/प्रभारी अधिकारी एकीकृत कोविड कमाण्ड एवं कन्ट्रोल सेन्टर को भी निर्देश दिए हैं।

डीएम ने निर्देश जारी करते हुए कहा कि डाटा संकलन तथा इसके पोर्टल पर फीडिंग कार्य में लगायी गयी टीमों के कार्यो का पर्यवेक्षण करते हुए यह सुनिश्चित करेंगे कि प्रतिदिन समय से डाटा का संकलन व फीडिंग सुनिश्चित की जाय।

‘लापरवाही पर होगी सख्त कार्रवाई’ 

इस काम में यदि किसी कार्मिक द्वारा लापरवाही पायी जाती है तो उसके विरूद्ध कठोर कार्रवाई सुनिश्चित की जाय। उन्होंने नोडल अधिकारी को यह भी निर्देश दिए हैं कि वे आपदा के नोडल अपर जिलाधिकारी के माध्यम से सूचनाएं उन्हें रोजाना उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे।

बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी पर दर्ज हुआ एक और केस, जानिए क्या है मामला

Previous article

बीते 24 घंटे में प्रदेश भर में कोरोना के 12787 नए मामले , 48 की मौत

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured