कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर इन आसान उपायों से रखें खुद का ख्याल

लखनऊ: कोरोना संक्रमण लगातार तेजी से फैल रहा है, जिसको देखते हुए स्वास्थ्य विभाग और सरकार कई तरह की तैयारियां कर रही है। लेकिन आम लोगों को भी इसमें आगे आकर अपनी भागीदारी साबित करनी होगी। स्वास्थ्य सुविधाओं में महामारी का साफ असर देखने को मिल रह है। ऐसे में यह सबकी जिम्मेदारी बनती है कि वह जागरूक रहें और अपने आप को संक्रमित होने से बचाएं।

संक्रमण के लक्षण दिखाई देने घबराएं नहीं

केजीएमयू के वरिष्ठ डॉ सूर्यकांत ने बताया कि कई ऐसे तरीके हैं, जिनसे घर बैठे आसानी से इलाज किया जा सकता है और अस्पताल जाने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कुछ दवाइयों को भी लेने की सलाह दी, हालांकि इसका इस्तेमाल भी पूरी सावधानी के साथ करना है। जिन्हें पहले से किसी तरह की बीमारी है, उनको अपनी डॉक्टर की सलाह पर ही दवाओं को लेना चाहिए।

उपचार के लिए यह तरीका अपनाएं

डॉ सूर्यकांत के अनुसार पैरासिटामॉल 500 एमजी का इस्तेमाल तब किया जाना चाहिए, जब तापमान 99 डिग्री से अधिक होता है। अगर वजन 60 किलोग्राम से ज्यादा है तो पैरासिटामोल की 650mg की दवा खाई जा सकती है।

Ivermectin 12mg दिन में एक बार खाना चाहिए। इसे खाना खाने के 2 घंटे बाद रात्रि में खाया जा सकता है। जिसे अगले 5 दिनों तक जारी रख सकते हैं। इस दवा को लेने के लिए दो जानकारी रखना जरूरी है, पहला अगर आपका वजन 60 किलो से 80 किलोग्राम के बीच है तो 18mg की दवा खाएं। अगर वजन 80 किलोग्राम से अधिक है तो 24mg की दवा खा सकते हैं।

कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर इन आसान उपायों से रखें खुद का ख्याल

कैप डॉक्सीसाइक्लिन 100 एमजी दो बार दिन में लिया जा सकता है। इसे भी अगले 5 दिनों तक जारी रख सकते हैं। 1 महीने के लिए जिंक 50mg दिन में 2 बार खा सकते हैं। विटामिन सी की 500 मिलीग्राम की गोली चबाने के लिए सबसे सही है। इसे अगले एक महीने तक दिन में दो बार खाया जा सकता है।

सप्ताह में एक बार अगले एक महीने तक विटामिन डी 60,000 यूनिट खाई जा सकती है। इसके साथ ही कुछ ऐसे उपाय हैं, जिन्हें घरेलू तरीकों से किया जा सकता है। दिन में दो बार गर्म भाप लेना आवश्यक है, इसके साथ ही पानी और लिक्विड का खूब सेवन करें।

संक्रमण के लक्षण दिखाई देने पर कम से कम 10 दिन तक घर में ही आराम करना चाहिए। किसी के भी संपर्क में आने से बचें, अपने डॉक्टर की समय-समय पर सलाह लेते रहें। अगर तापमान 104 डिग्री से अधिक हो जाता है और ऑक्सीजन का स्तर 94% से कम हो जाता है तो तुरंत अपने डॉक्टर या नजदीकी अस्पताल से संपर्क करें।

सावधानी ही सबसे बड़ी दवाई

मौजूदा समय और हालात पर अगर नजर डालें तो जितनी सावधानी हम रख सकते हैं, उतना ही हमारे लिए बेहतर है। डॉक्टर भी लगातार यही सलाह दे रहे हैं। उनका कहना है कि ज्यादा से ज्यादा भीड़भाड़ वाले इलाकों में रहने से बचें, मास्क पहने, उचित दूरी का पालन करें और किसी भी तरह की लापरवाही करने से बचें। बढ़ते संक्रमण के इस दौर में अपने आप को बचाना समाज को बचाने जैसा है।

कोरोना की चपेट में आये भोजपुरी सुपरस्टार, लखनऊ स्थित पीजीआई में भर्ती

Previous article

रेमडेसिवर इंजेक्शन की भारी खेप एसटीएफ ने की बरामद, जानें कहां का मामला

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured