featured यूपी

ऑपरेशन क्लीन के तहत विकास दुबे से जुड़े आधे गैंग का सफाया, बाकी लोगों की तलाश जारी

up 3 ऑपरेशन क्लीन के तहत विकास दुबे से जुड़े आधे गैंग का सफाया, बाकी लोगों की तलाश जारी

एक साथ 8 पुलिसकर्मियों की जान लेने के जिम्मेदार विकास दुबे से जुड़ा आधा गैंग साफ हो गया है। नामजद 21 अभियुक्तों में से 6 पुलिस मुठभेड़ में मारे गए

लखनऊ। एक साथ 8 पुलिसकर्मियों की जान लेने के जिम्मेदार विकास दुबे से जुड़ा आधा गैंग साफ हो गया है। नामजद 21 अभियुक्तों में से 6 पुलिस मुठभेड़ में मारे गए और 3 गिरफ्तार हुए। बाकी 12 की तलाश की जा रही है। अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि विकास दुबे गैंग के सफाये के लिए अभियान जारी रहेगा।

उन्होंने बताया कि 3 जुलाई को सुबह हुए एनकाउंटर में अतुल दुबे और प्रेम प्रकाश मारे गए थे। 4 जुलाई को सर्च अभियान में विकास दुबे के घर से 6 तमंचे, दो किलो विस्फोटक, 25 कारतूस और 15 देसी बम बरामद किए गए थे। पांच जुलाई को दया शंकर अग्निहोत्री को पुलिस से मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया गया था।

बता दें कि 6 जुलाई को पुलिस ने तीन लोगों सुरेश वर्मा, क्षमा और रेखा को गिरफ्तार कर लिया था। 7 जुलाई को संजय दुबे, श्यामू वाजपेई और जहान यादव को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया गया। इसी दिन अमर की पत्नी खुशी और शांति देवी नाम की महिला को गिरफ्तार कर लिया गया। साथ ही विकास दुबे के मददगार दो पुलिस कर्मियों सब इंस्पेक्टर विनय तिवारी और केके मिश्रा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

https://www.bharatkhabar.com/there-will-be-war-between-america-and-china-for-islam/

तीन दिन में चार एनकाउंटर

इसके बाद तीन दिनों में चार एनकाउंटर किए गए। इसमें 8 जुलाई को विकास दुबे का दाहिना हाथ अमर दुबे को हमीरपुर में मुठभेड़ के बाद मार गिराया गया। 9 जुलाई को उसका एक और भरोसेमंद साथी प्रभात मिश्रा जो कानपुर से फरीदाबाद तक उसके साथ था, उसे ट्रांजिट रिमांड पर लाते समय कानपुर में हुई मुठभेड़ में मार गिराया। 9 जुलाई को ही विकास दुबे नाटकीय ढंग से उज्जैन में पकड़ा गया और वहां से लाते समय कानपुर में हुई मुठभेड़ में वह भी मारा गया।

12 इनामी बदमाशों की तलाश तेज

गैंग के मुखिया के खात्मे के बाद अब गैंग के बाकी इनामी अपराधियों की तलाश तेज हो गई है। इसमें छोटू शुक्ला, मोनू, शशिकांत पंडित, शिव तिवारी, विष्णु पाल, राम सिंह, रामू वाजपेई, गोपाल सैनी, बीरू दुबे, शिवम, बाल गोविंद और बउवन शुक्ला शामिल हैं। इसमें से कुछ पर 25 हजार और कुछ पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित है। प्रशांत कुमार के मुताबिक जांच के दौरान 60 से 70 अन्य अभियुक्तों के नाम सामने आए हैं, उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जा रही है।

पुलिस के गायब असलहों की तलाश जारी

प्रशांत कुमार ने बताया कि पुलिस के जो असलहे गायब थे, उनमें से 3 पिस्टल बरामद कर ली गई हैं और एके 47 व इंसास राइफल की तलाश की जा रही है। ये दोनों पुलिस के लंबी दूरी तक अचूक निशाने के लिए जानी जाती हैं।

Related posts

डॉ. सुभाष सुंदरियाल के बताए उपाय अपनाएं, खुद को मौसमी बीमारियों से बचाएं    

Shailendra Singh

भारत सरकार की अगुवाई में केंद्रीय भंडार 20 रूपये किलों में उपलब्ध करा रहा प्याज

Rani Naqvi

अन्ना ने एक बार फिर भरी हुंकार, कहा- अब अपने आंदोलन से नहीं बनने दूंगा एक और केजरीवाल

Breaking News