August 14, 2022 11:23 pm
Breaking News featured दुनिया देश भारत खबर विशेष यूपी राज्य

कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने के बाद शासन अलर्ट, 5000 सेंटर से होगा कोविड वैक्सीनेशन

Untitled 12 कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने के बाद शासन अलर्ट, 5000 सेंटर से होगा कोविड वैक्सीनेशन

कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या प्रदेश के कई जिलों में बढ़ने के बाद से उत्तर प्रदेश की सरकार व शासन अलर्ट हो गया है। इसके बाद अब प्रदेश भर में 5000 कोविड-19 सेंटर बनाए जाएंगे। इन के माध्यम से लोगों को कोविड-19 वैक्सीनेशन दिया जाएगा।

पांच हज़ार कोविड वैक्सीनेशन सेंटर बनाने की तैयारी

उत्तर प्रदेश में करीब 21 लाख लोगों को कोविड वैक्सीनेशन अब तक मिल चुकी है। इस कड़ी में पहले चरण में करीब प्रदेश भर में 230 टीकाकरण केंद्र बनाए गए थे। इन के माध्यम से लोगों को को कोविड वकसीनेशन की सुविधा उपलब्ध कराई गई थी। इसके बाद प्रदेश भर में करीब 3800 कोविड वैक्सीन सेंटर बनकर तैयार हो गए। इसके अंतर्गत दूसरे चरण का वैक्सीनेशन भी चलता रहा उसके साथ साथ प्रदेश के अस्पतालों में भी कोविड वैक्सीनेशन को लेकर के लगभग 1000 लोगों को ट्रेनिंग दी गई है। जिससे कि आने वाले दिनों में प्रदेश में कोविड वैक्सीनेशन की गति को बढ़ाया जा सके और ज्यादा से ज्यादा लोगों को कोविड वैक्सीन उपलब्ध कराई जा सके। इस पर जब हमने राज्य टीकाकरण अधिकारी अजय घई से बातचीत करी तो उन्होंने बताया कि प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती हुई देखने के बाद मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ की तरफ से ज्यादा से ज्यादा कोविड वैक्सीनेशसन का लक्ष्य दिया गया। इसी कड़ी में आने वाले दिनों में प्रदेश भर में करीब 5000 टीकाकरण केंद्र के माध्यम से कोरोना वैक्सीनेशसन उपलब्ध कराई जाएगी।

प्रदेश में फोकस टेस्टिंग से स्वास्थ्य विभाग तोड़ेगा कोरना कि चेन

उत्तर प्रदेश में कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए स्वास्थ विभाग ने कमर कस ली है। जिसको लेकर के स्वास्थ विभाग की तरफ से एक खास अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान का नाम फोकस टेस्टिंग ड्राइव रखा गया है। जिसके तहत कि भीड़ भाड़ वाले इलाकों में कोरोना की जांच की जाएगी।

होली के पर्व को देखते हुए अलर्ट

होली के पर्व को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुछ दिन पूर्व कोरोना को लेकर बड़ी मीटिंग की थी। इस मीटिंग में कोरोना को लेकर के खास रणनीति तैयार की गई थी। इसका नतीजा है कि आने वाले दिनों में स्वास्थ विभाग की तरफ से कोरोना टैस्टिंग ड्राइव किया जाएगा। इसके तहत भीड़भाड़ वाले इलाकों में स्वास्थ विभाग की टीम रैंडम टेस्ट करेगी। इसके बाद जिन लोगों की रिपोर्ट कोरोना संक्रमित आएगी उनको अलग रखकर उनके इलाज की प्रक्रिया स्वास्थ्य की तरफ से की जाएगी। इसके अतिरिक्त इनके संपर्क में आए हुए लोगों को भी चिन्हित कर क्वॉरेंटाइन किया जाएगा। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिन जनपदों में कोरोना शंकर मित्रों की संख्या लगातार बढ़ रही हैं। उनको लेकर के भी खास ध्यान रखने के लिए कहा है। जिनमें लखनऊ, कानपुर, आगरा, गौतमबुध नगर को लेकर के स्वास्थ विभाग अलर्ट है।

कोरोना वैक्सीनेशन ले लिए भी टारगेट किया गया सेट

कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर के भी उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य विभाग में सभी जनपदों को खास निर्देश दिए दिए। इन निर्देशों में अहम है कि जिन जनपदों में 25 लाख से कम आबादी है। उन जनपदों में रोजाना 3000 लोगों को कोरोना वकसीनेशन का आदेश दे दिया गया है। इसके अतिरिक्त अन्य जो जनपद है जहां पर 25 लाख से अधिक लोग रह रहे हैं। वहां पर 5000 प्रतिदिन वकसीनेशन का टारगेट दिया गया है। जिससे कि आने वाले दिनों में कोरोना वैक्सीन ज्यादा से ज्यादा लोगों को लग पाए और यदि कोरोनावायरस के दुष्प्रभाव से लोगों को बचाया जा सके।

Related posts

बिहार में रिलीज होगी या नहीं पद्मावत, संशय बरकरार

Vijay Shrer

PM कार्यालय में लगी आग, दमकल की 10 गाड़ियों ने 20 मिनट में पाया आग पर काबू

Pradeep sharma

आयुर्वेदिक दिनचर्या की शुरुआत कर अपने जीवन को बनाए आनंदमय

Trinath Mishra