featured यूपी

रक्षा मंत्री ने लखनऊ को दिया ऑक्सीजन, कोरोना से लड़ाई में केंद्र का मिल रहा साथ

रक्षा मंत्री ने लखनऊ को दिया ऑक्सीजन, लड़ाई में केंद्र का मिल रहा साथ

लखनऊ: रक्षा मंत्री और लखनऊ से सांसद राजनाथ सिंह ने शहर के लिए मदद भिजवाई है। उन्होंने 5000 लीटर के जंबो ऑक्सीजन सिलेंडर भेजे जा रहे हैं। जिनका इस्तेमाल स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर करने में किया जाएगा।

डीआरडीओ की मदद से होगी आपूर्ति

ऑक्सीजन सिलेंडर और अन्य सुविधाओं के लिए डीआरडीओ आगे आकर मदद कर रहा है। इसके पहले कोविड अस्पताल बनाने के लिए भी रक्षा मंत्री की तरफ से मदद की बात कही गई। अब डीआरडीओ के ही सहयोग से लखनऊ के अस्पताल में ऑक्सीजन की आपूर्ति होगी।

लगातार देखी जा रही है ऑक्सीजन की कमी

कोरोना की नई लहर सीधा फेफड़ों पर असर डाल रही है। इसका सबसे ज्यादा प्रभाव सांस के मरीजों को हो रहा है। सांस लेने में दिक्कत होने के कारण उन्हें वेंटिलेटर पर रखे जाने की आवश्यकता होती है। जिसके लिए ऑक्सीजन की सप्लाई भी जरूरी है।

लेकिन संक्रमित मरीजों की संख्या काफी ज्यादा होने के कारण अस्पतालों का ऑक्सीजन भार कई गुना बढ़ गया है। ऐसे में अब रक्षा मंत्री की तरफ से लखनऊ के अस्पतालों को यह मदद भेजी गई है। जिसमें 5000 लीटर के बड़े ऑक्सीजन सिलेंडर शहर में उपलब्ध करवाए जाएंगे।

कई गुना बढ़ गए ऑक्सीजन के दाम

भारी कमी के चलते उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन ब्लैक में बिकने लगा था, जिसके लिए लोगों को कई गुना पैसे चुकाने पड़ रहे थे। इसके बाद भी समय पर ऑक्सीजन की सप्लाई न हो पाना एक बड़ी समस्या थी। राजधानी लखनऊ की बात करें तो यहां के अस्पतालों की स्थिति अभी भी बहुत बेहतर नहीं है।

लगातार संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं, लखनऊ में बीते 24 घंटे में 5551 नए मामले सामने आए। वहीं उत्तर प्रदेश में यह आंकड़ा 30000 को पार कर गया है। लखनऊ के अतिरिक्त प्रयागराज में 1711, कानपुर में 1839, वाराणसी में 2011 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। ऐसे में आम लोगों के लिए समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। इन दिनों घर से बाहर जाना किसी बड़े खतरे को आमंत्रण देने जैसा है।

Related posts

Share Market Today: शेयर बाजार में गिरावट, सेंसेक्स 233 अंक गिरा, निफ्टी 16200 के नीचे फिसला

Rahul

गुरूग्राम के बाद देवरिया में हुई मौत के बाद स्कूलों की सुरक्षा पर उठे सवाल

piyush shukla

लखनऊ:दुष्कर्म पीड़िता की डेट ऑफ बर्थ पर हाईकोर्ट भी हैरान

Shailendra Singh