featured उत्तराखंड

चारधाम यात्रा का आगाज, जिला प्रशासन ने किया स्थलीय निरीक्षण

CHARDHAM YATRA चारधाम यात्रा का आगाज, जिला प्रशासन ने किया स्थलीय निरीक्षण

चारधाम यात्रा का आज से विधिवत आगाज हो गया है। जनपद के दोनों धाम  यमुनोत्री और गंगोत्री धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए है।  आज यमुनोत्री धाम में 152 और गंगोत्री में 176 श्रद्धालुओं ने दर्शन किये कोविडकाल में दोनों धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए बन्द किये गए थे। जबकि इस दौरान माँ गंगा व यमुना  की पूजा आराधना नियमित चलती  थी। इसी क्रम आज जिलाधिकारी  मयूर दीक्षित और पुलिस  अधीक्षक मणिकांत मिश्रा ने  यमुनोत्री धाम का स्थलीय निरीक्षण किया  और  यात्रा व्यवस्थाओं का  जायजा लिया।

chardham yatra 2020 चारधाम यात्रा का आगाज, जिला प्रशासन ने किया स्थलीय निरीक्षण

हाईकोर्ट के आदेशों व राज्य सरकार द्वारा जारी चारधाम यात्रा एसओपी का अनुपालन सुनिश्चित कराने को लेकर जिलाधिकारी द्वारा निरीक्षण किया गया। जिलाधिकारी ने कोविड प्रोटोकॉल को लेकर यात्रा मार्गों व मंदिर परिसर में जागरूकता फ्लेक्स आदि सहित कोविड केयर सेंटर यमुनोत्री धाम में जीवन रक्षक दवाई के साथ ही  ऑक्सीजन,मास्क,सेनेटाइजर की व्यवस्था। तथा त्कालिक व्यवस्था हेतु ऑक्सीजन युक्त दो बैड भी का भी निरीक्षण किया गया। जिसे और बढ़ाने के निर्देश सीएमओ को दिये गए है। इस अवसर पर जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने यमुनोत्री धाम मंदिर में माँ यमुना जी की पूजा अर्चना भी की।

चारधाम यात्रा

जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद के दोनों धाम में बाहरी राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं का ऑनलाइन पास होना अनिवार्य है। तथा जिन श्रद्धालुओं की कोरोना जांच नहीं हुई है उनकी जांच जनपद की सीमा पर लगी चेक पोस्ट पर स्वास्थ्य टीम द्वारा की जाएगी

एसपी मणिकांत मिश्रा ने पुलिस जवानों को कोविड प्रोटोकॉल व राज्य सरकार द्वारा जारी एसओपी का शतप्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये है। कहा कि दोनों धाम में सुरक्षा व्यवस्था को मध्य नजर रखते हुए पुलिस जवानों की अतिरिक्त तैनाती भी की गई है।

Related posts

अल्मोड़ा: प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की अध्यक्षता में हुई प्रदेश कार्य समिति की बैठक

pratiyush chaubey

Govardhan: श्रीगिर्राज सेवा मित्र मण्डल ने गोवर्धन महाराज की दुग्धधार परिक्रमा, गिर्राजी को अर्पित किया छप्पन भोग

Rahul

27 मई को मनाई जायेगी नारद जयंती, यहां पढ़ें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Shailendra Singh