घटना की होगी मजिस्ट्रेट जांच, 4 सप्ताह में पेश होगी रिपोर्ट बोले अमरिंदर

नई दिल्ली। विजयादशमी के दिन रावण दहन कार्यक्रम स्थल के पास हुए ट्रेन हादसे में अब तक 61 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही तकरीबन 72 लोग घायल हुए हैं। ये हादसा उस वक्त हुआ जब लोग रेलवे ट्रेक पर खड़े होकर रावण का दहन देख रहे थे। उसी वक्त ट्रेन आ गई, जिसकी चपेट में आने से इतना बड़ा हादसा हो गया। हांलाकि इस हादसे के बाद से वहां से गुजरने वाली 37 ट्रेनों को निरस्त कर दिया गया है। जबकि 16 ट्रेनों के रास्ते बदल दिए गए हैं। इसके अलावा जालंधर अमृतसर मार्ग पर ही आवाजाही ठप कर दी गई है।

हादसे के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह तड़के घटना स्थल पर पहुंचे और घायलों से भी मिले हैं। उन्होने कहा कि जब भी कोई हादसा होता है, प्रशासन और सरकार की कोशिश होती है। स्थितियां सामान्य करने की हम जितनी जल्दी हो सका उतनी जल्दी पहुंचे हैं। आज पूरी सरकार की कैबिनेट अमृतसर में है। उन्होने कहा कि इस हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को सरकार ने मुआवजे का ऐलान कर दिया है। सरकार ने तत्काल सहायता राशि जारी करने के लिए 3 करोड़ का फंट तुरंत जारी कर दिया है।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि ये घटना बहुत ही दुखद है। इस घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं। 4 सप्ताह के भीतर इस मामले की रिपोर्ट को पेश करने के लिए कहा है। इसके साथ ही हादसे की जांच रेलवे से कराने की बात भी कही है।