Platform Ticket के जरिए भी कर सकते हैं ट्रेन में यात्रा, जानें क्या कहते हैं रेलवे के नियम

रेलवे स्टेशनों पर सफाई व्यवस्था को बेहतर बनाने और रेवेन्यू बढ़ाने के मकसद से नॉर्दन रेलवे के दिल्ली डिवीजन ने नए वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट पर काम शुरू किया है। ठोस कूड़े के निस्तारण की समस्या को दूर करने के लिए प्रोजेक्ट को लांच किया गया है।

30 प्रमुख रेलवे स्टेशनों से कूड़ा इकट्ठा होगा

इस अनूठे प्रोजेक्ट के तहत दिल्ली डिवीजन ने एक एजेंसी के साथ करार किया है। जिसके सहयोग से दिल्ली डिवीजन के तहत आने वाले 30 प्रमुख रेलवे स्टेशनों से कूड़ा इकट्ठा किया जाएगा। इनमें ज्यादातर स्टेशन दिल्ली-NCR के ही हैं। इसके बदले में दिल्ली डिवीजन को सालाना 10 लाख रुपये मिलेंगे, और संक्रमण के खतरे को देखते हुए भी इसे अहम माना जा रहा है।

सफाई व्यवस्था को सुधारने पर जोर

इससे रेलवे स्टेशनों पर सफाई व्यवस्था को और सुधारा जा सकेगा। इस प्रोजेक्ट के लिए लाहौरी गेट पर रेलवे द्वारा मेटेरियल रिकवरी फैसिलिटी स्थापित की गई है। ये प्लांट 30 रेलवे स्टेशनों पर जनरेट होने वाले कूड़े के सही तरीके से निस्तारण में अहम भूमिका निभाएगा। जो गीले, सूखे, ठोस और नरम कूड़े को अलग-अलग करके उसे प्रोसेस किया जाएगा।

अलग-अलग कैटेगरी में सैगरीगेट होगा कूड़ा

कूड़े को कई तरह की अलग-अलग कैटेगरी में सैगरीगेट किया जाएगा। और फिर री-साइकिल किए जाने योग्य कूड़े को निस्तारण के अगले चरण के लिए भेजा जाएगा। मसलन बचे हुए खाने और अन्य बायो- डिग्रेडेबल मेटेरियल को कंपोस्ट बनाने के लिए भेजा जाएगा। वहीं सूखे कूड़े के निस्तारण के लिए एक अलग प्रक्रिया अपनाई जाएगी।

वेस्ट टू एनर्जी प्लांट में भेजा जाएगा कूड़ा

अधिकारियों के मुताबिक प्लास्टिक की कूड़े को CPCB द्वारा बताई गई सात अलग-अलग कैटेगरी में बांटकर अलग किया जाएगा। और री- साइकिल करने के लिए उसे पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड द्वारा अधिकृत किए गए वेस्ट टू एनर्जी प्लांट में भेजा जाएगा। इसके लिए दिल्ली डिवीजन ने कूड़ा प्रबंधन के क्षेत्र में काम करने वाली एक एजेंसी के साथ करार किया है।

30 रेलवे स्टेशनों पर 15000 किलो कूड़ा

इस प्रोजेक्ट पर अप्रैल के आखिरी हफ्ते में काम शुरू होगा, और अभी तक 30 रेलवे स्टेशनों पर जनरेट हुआ 15000 किलो से ज्यादा कूड़ा वेस्ट टू एनर्जी प्लांट और री-साइकलिंग प्लांट में भेजा जा चुका है। दिल्ली डिवीजन के DRM के मुताबिक ये प्रोजेक्ट इसकी मिसाल है कि किस तरह एक ख़र्चीले काम को किराए से इतर रेवेन्यू जेनरेट करने वाले काम के रूप में तब्दील कर दिया है।

लखनऊ: पूर्व सीएम बोले यूपी के पुलिस पर भरोसा नहीं

Previous article

कोरोना काल में परिवार नियोजन की स्वास्थ्य विभाग इस तरह कर रहा तैयारी

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.