ब्लॉक प्रमुख चुनाव में हिंसा के बाद पुलिस का एक्शन, सपा ने किया पलटवार

लखनऊ: बीते 10 जुलाई को उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव संपन्न हुए। इस दौरान कई जिलों में भारी हिंसक झड़प देखने को मिली, अब इस मामले में उपद्रवियों पर सरकार ने एक्शन लिया है।

900 लोगों पर मुकदमा

ब्लॉक प्रमुख चुनाव में जिस तरह से सब जगह पर हिंसा की घटनाएं देखने को मिली, इसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस प्रशासन की छवि भी प्रभावित हुई है। इसी मामले में अलग-अलग जिलों में 900 से अधिक लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। इतना ही नहीं, 60 लोगों की गिरफ्तारी भी हुई है।

इन जगहों पर हुई घटनाएं

यूपी में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दिन लखीमपुर खीरी, इटावा सहित प्रदेश के कई जिलों में महिलाओं के साथ बदसलूकी, तोड़फोड़ और मारपीट की घटनाएं सामने आई। इसी मामले में पुलिस प्रशासन में सख्ती दिखाते हुए 900 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। प्रतापगढ़ जिले में भी मतदान प्रक्रिया के दौरान फर्जीवाड़े का आरोप लगाया गया।

इस दौरान हंगामा भी हुआ और पथराव भी किया गया। इस मामले में शामिल 161 नामजद सहित कुल 411 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। ब्लॉक प्रमुख चुनाव में हुई घटना पर विपक्ष ने भी यूपी सरकार पर निशाना साधा।

सपा ने कहा सरकार लगा रही फर्जी मुकदमें

इसी एक्शन पर समाजवादी पार्टी ने पलटवार करते हुए ट्वीट किया। इसमें कहा गया कि जितने फर्जी मुकदमे समाजवादियों पर लादे गए हैं, वह आज तक किसी भी सरकार में नहीं हुआ। मौजूदा सरकार विपक्ष पर फर्जी मुकदमा लगाने का काम कर रही है।

पंचायत चुनाव में खुलेआम गुंडागर्दी और पुलिस को पीटने वाले भाजपाई गुंडों को छोड़ सोनभद्र में सपा जिलाध्यक्ष समेत कुल 19 लोगों पर केस दर्ज किया गया, यह बहुत ही निंदनीय है। इतना ही नहीं, समाजवादी पार्टी की तरफ से कहा गया कि सब कुछ याद रखा जाएगा और सब का हिसाब होगा।

रायबरेलीः सीएम योगी के मुरीद हुए कांग्रेस विधायक, कहा- हिंदू विरोधी है मेरी पार्टी

Previous article

रामपुरः अवैध असलहा बनाने वाली फैक्ट्री का पर्दाफाश, चार अभियुक्त गिरफ्तार

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured