फतेहपुर में सदर तहसील पर सपाइयों का प्रदर्शन, की जमकर नारेबाजी

फतेहपुर: समाजवादी पार्टी ने महंगाई, एमएसपी, महिला अपराध पर रोकथाम सहित 16 सूत्रीय मांगों को लेकर गुरुवार को सदर तहसील पर प्रदर्शन किया। इस दौरान जिला अध्यक्ष विपिन यादव के नेतृत्व में सपा कार्यकर्ताओं ने पार्टी कार्यालय से सदर तहसील तक तांगे से पहुंचकर प्रदर्शन किया। सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए राष्ट्रपति के नाम उप जिलाधिकारी प्रमोद झा को ज्ञापन सौंपा।

जिलाध्यक्ष ने बताया कि, यह विरोध प्रदर्शन खागा और बिंदकी तहसील में भी किया गया। प्रदर्शन के दौरान कोई गड़बड़ी या अराजकता न हो इसके लिए मौके पर भारी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था। कोतवाली इंस्पेक्टर सहित पुलिस उपाधीक्षक संजय सिंह भी मुस्तैद रहे। सपा कार्यकर्ताओं ने मंहगाई कम करो सहित डीजल-पेट्रोल दाम गिराओ के स्लोगन लिखकर सरकार को आइना दिखाया।

नए कृषि कानून से लेकर रोजगार तक के मुद्दों पर प्रदर्शन

प्रदर्शनकारियों ने नई कृषि नीति को रद्द करने के साथ ही किसानों को उनकी फसलों पर एमएसपी के गारंटी की मांग की। नारेबाजी करते हुए कार्यकर्ताओं ने 15 हजार करोड़ रुपये गन्ने का बकाया भुगतान दिलाने की मांग की। मंहगाई पर रोक लगाने के लिए डीजल, पेट्रोल, कृषि संयंत्र, खाद, बीज, कीट नाशक दवाएं, रसोई गैस इत्यादि पर रोक लगाने के लिए तत्काल कदम उठाएं जाए। बेरोजगार नौजवान को रोजगार की व्यवस्था करते हुए उन्हें सामान्य धारा से जोड़ा जाए।

कानून व्यवस्था को लेकर सपा कार्यकर्ताओं ने कहा, प्रदेश में ध्वस्त कानून व्यवस्था को दुरूस्त करने के साथ महिला अपराध पर रोक लगाई जाए। इसके साथ ही समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खां सांसद और उनके परिवार व पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न बंद हो और उनके ऊपर फर्जी मुकदमें दर्ज करना तत्काल बंद किया जाए।

सरकार के भ्रष्‍टाचार की जांच की मांग

उन्‍होंने कहा कि, भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के साथ ही कोरोना काल में सरकार के भ्रष्टाचार की जांच हो और मृतकों के परिजनों को मुआवजा दिया जाए। पिछड़े वर्ग को अनुमन्य 27 प्रतिशत आरक्षण में कटौती बंद हो। बीते दिनों हुए जिला पंचायत और क्षेत्र पंचायत अध्यक्षों के चुनाव में हुई धांधली और हिंसा की जांच कराई जाए। उत्तर प्रदेश की बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था को तुरंत दुरुस्त किया जाए।

लखनऊ कमिश्नरेट से 6 दबंग जिला बदर, जानिए इसका कारण

Previous article

हल्द्वानी: इन ग्रामीणों को वोट का अधिकार, लेकिन अन्य अधिकारों से हैं वंचित-जानें क्यों…

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured