December 6, 2022 2:07 pm
featured यूपी

फतेहपुर का ऐसा गांव, जहां आजादी के बाद आज तक नहीं हुई चकबंदी

फतेहपुर का ऐसा गांव, जहां आजादी के बाद आज तक नहीं हुई चकबंदी

फतेहपुर: जिले में एक ऐसा भी गांव हैं, जहां पर आज तक चकबंदी नहीं हुई है। ऐसे में किसानों को अपने छोटे-छोटे खेतों को एक बड़ी चक (खेत) बनाने में दिक्कत हो रही है। हालांकि, चकबंदी बंदोबस्त अधिकारियों का कहना है कि बहुत जल्द इस गांव में चकबंदी होगी।

इन सबके बीच बड़ा सवाल यह है कि सदर तहसील में चकबंदी के लिए आ रहे किसानों को कब इसका लाभ मिल पाता है। ललौली गांव में 1537.4400 हेक्टेयर कृषि योग्य जमीन और 2197 प्लाट हैं। इन सभी जमीनों की चकबंदी होनी है, लेकिन विभागीय सुस्ती और तकनीकी समस्याओं के चलते देश आजाद होने के बाद भी चकबंदी नहीं हो पाई है।

चकबंदी न होने से किसानों को परेशानी

सामान्यत: खेतों के छोटे और दूर-दूर होने से किसानों को खेती करने में अनावश्यक समस्याएं होती हैं, जिनमें अधिक समय लगने से लेकर कम पैदावार तक शामिल होता है। खेतों के छोटे-छोटे भाग होने की वजह से ही कृषि की आधुनिक तकनीक को अपनाने में दिक्कत होती है क्योंकि दूर तक फैले एक साथ सभी खेतों को उसका लाभ नहीं मिल पाता है। खेत का आकार बढ़ जाने से जहां फसल की उत्पादन लागत घट जाती है तो वहीं, किसानों को फसल का अधिक लाभ भी मिलता है। इसके साथ ही लेखपाल, चकबंदी अधिकारी की मौजूदगी में भूखंड की माप होने से किसान की जमीन भी कानूनी आधार पर मजबूत हो जाती है।

किसानों को अपने खेत और दूसरे के खेत के बीच मेड बांधनी पड़ती है, जिससे उनकी खेत की जमीन बेकार में पड़ी रह जाती है। उससे कोई उपज भी नहीं हो पाती। चकबंदी में किसानों को इस मेड़बंदी से मुक्ति मिलती है। साथ ही एक स्थान पर भूमि हो जाने से फसल को एक साथ निरीक्षण और उपचार भी हो जाता है। ऐसे में किसानों के बिखरे हुए जमीन के टुकड़े को एक जगह पर किया जाना ही चकबंदी कहलाता है। इसके बदले में जमीन का कुछ भाग सरकार के हिस्से में चला जाता है।

अधिकारी ने कहा- जल्‍द शुरू होगी चकबंदी  

गुरुवार को क्षेत्रीय सहायक चकबंदी अधिकारी चंद्रभान यादव ने बताया कि, ललौली गांव में तकनीकी समस्याओं के चलते चकबंदी नहीं हो पाई है। मामले पर कार्यवाही की जा रही है। निदेशालय से आदेश मिलते ही ललौली गांव में चकबंदी शुरू हो जाएगी।

Related posts

National Herald Case: ED कार्यालय पहुंचे राहुल गांधी, नेशनल हेराल्ड केस पर पांचवें दिन की पूछताछ जारी

Rahul

इंग्लैड के कप्तान जो रूट, विराट कोहली की तरह बेहतरीन बल्लेबाज नहीं हैं- माइक ब्रेयरली

mahesh yadav

चौथी लहर की ओर दक्षिण अफ्रीका!, भारत में भी बढ़ेंगे मामले ?

Rahul