featured यूपी

यूक्रेन से लखनऊ लौटी आकांक्षा चौरसिया की भारत ख़बर से EXCLUSIVE बातचीत

Screenshot 1340 यूक्रेन से लखनऊ लौटी आकांक्षा चौरसिया की भारत ख़बर से EXCLUSIVE बातचीत

shivnandan 1 यूक्रेन से लखनऊ लौटी आकांक्षा चौरसिया की भारत ख़बर से EXCLUSIVE बातचीत शिवनदंन सिंह, संवाददाता

 

यूक्रेन और रूस का विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। ऐसे में अब राज्य सरकारों द्वारा भी वहां फंसे लोगों और छात्रों को निकालने का कार्य जारी है।

यह भी पढ़े

 

रूस और यूक्रेन में युद्ध जारी, यूक्रेन में एक और भारतीय छात्र की मौत, भारतीय दूतावास ने नई एडवाइजरी की जारी

 

यूक्रेन से लखनऊ लौटी एमबीबीएस की छात्रा आकांक्षा चौरसिया ने हमारे संवाददाता से बातचीत कर यूक्रेन के ताजा हालतों पर चर्चा की।

Screenshot 1340 यूक्रेन से लखनऊ लौटी आकांक्षा चौरसिया की भारत ख़बर से EXCLUSIVE बातचीत

 

यूक्रेन में हालात बहुत खराब

बातचीत में आकांक्षा चौरसिया ने बताया कि अभी यूक्रेन के हालात सामान्य नहीं है। दिन – प्रतिदिन हालात बिगड़ रहें हैं। हालांकि उन्होंने यह भी बताया कि वह जहां रह रही थी । वहां स्थिति ज्यादा खराब नहीं थी।

इंडियन एम्बेसी ने नहीं की मदद

आकांक्षा ने इंडियन एम्बेसी पर आरोप लगाते हुए कहा कि एम्बेसी द्वारा उन्हें किसी भी प्रकार की कोई मदद नहीं मिली । कई साथी घंटो तक वहां फंसे रहे। जिसके बाद सोशल मीडिया पर वीडियो बनाकर वायरल किए गए। उसके बाद एम्बेसी ने उनसे संपर्क साधा। हालांकि इस दौरान उन्होंने यह भी बताया कि सरकार के दखल करने के बाद उन्हें काफी मदद मिली।

Screenshot 1338 यूक्रेन से लखनऊ लौटी आकांक्षा चौरसिया की भारत ख़बर से EXCLUSIVE बातचीत

8 किलोमीटर पैदल चलकर पहुंचे बार्डर

आकांक्षा ने बातचीत के दौरान यह भी बताया कि वह एक प्राइवेट बस में बैठकर बार्डर की तरफ निकले। लेकिन बार्डर पहंुचने के 8 किलोमीटर पहले ही उन्हें वहां उतरना पड़ा। दूर- दूर तक गाड़ियों की लंबी – लंबी लाईनें लगी थी। जिसके चलते वह 8 किलोमीटर पैदल चलकर बार्डर पहुंचे ।

यूक्रेन आर्मी ने छात्रों से की मारपीट !

पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा था। जिसमें यह दिख रहा था कि यूक्रेन आर्मी भारतीय छात्रों और लोगों के साथ मारपीट कर रही है। ऐसे में आकांक्षा ने इन सभी बातों का जवाब दिया है। आकांक्षा ने बातचीत में बताया कि बार्डर पर भीड़ लगातार बढ़ती जा रही थी। ऐसे में यूक्रेन आर्मी द्वारा वहां से लोगों को हटने के लिए कहा जा रहा था। क्योंकि वहां से लगातार ट्रक गुजर रहे थे। ऐसे में वहां जमा हुए लोग बार्डर पर लगे गेट को तोड़ने की कोशिश कर रहे थे। जिसके कारण यूक्रेन आर्मी और लोगों के बीच हाथापाई हो गई।

Screenshot 1340 यूक्रेन से लखनऊ लौटी आकांक्षा चौरसिया की भारत ख़बर से EXCLUSIVE बातचीत

ओपरेशन ‘गंगा’ से मिली काफी मदद

आकांक्षा ने बातचीत के दौरान यह भी बताया कि ओपरेशन ‘गंगा’ से उन्हें काफी मदद मिली। हर जगह उनके रूकने और खाने का पूरा इंतजाम किया गया था। जिसके बाद उन्हें किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई और वह सही सलामत अपने घर वापिस पहुंची। हालांकि उन्होंने यह भी बताया कि अभी भी यूक्रेन में कई छात्र फंसे हैं ।

Related posts

भारतीय राज्यों-अमेरिकी निवेशकों की बातचीत से व्यापार बढ़ेगा: जेटली

bharatkhabar

मध्य प्रदेश के सीएम ने प्रत्येक बेघर को 2.5 लाख रु की सहायता का आश्वासन दिया

Trinath Mishra

रूस ने किया भारत का समर्थन चीन-पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका..

Mamta Gautam