UP: पर्व के मद्देनजर मुख्‍यमंत्री ने धर्मगुरुओं के साथ की बैठक, की ये अपील

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ लगातार प्रयासों में जुटे हुए हैं। इसी क्रम में मंगलवार को उन्‍होंने प्रदेश के धर्मगुरुओं के साथ एक वर्चुअली बैठक की है।

मुख्‍यमंत्री ने पर्व एवं त्योहारों के दौरान बेहतर कोरोना प्रबंधन के लिए विभिन्न जिलों के धर्मगुरुओं के साथ वर्चुअल बैठक की और इससे जुड़ने के लिए संतों, धर्माचार्यों और गुरुओं का अभिनंदन किया। बैठक में उन्‍होंने कहा कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में यूपी सरकार कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को पिछले एक वर्ष से पूरी मजबूती के साथ लड़ रही है।

कोरोना रोकथाम में यूपी ने पेश किया था उदाहरण  

सीएम योगी ने कहा कि, प्रधानमंत्री और राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल का मार्गदर्शन हमें समय-समय पर मिला है, जिस कारण बीते एक वर्ष से अधिक समय में कोरोना की रोकथाम में उत्तर प्रदेश अच्छा उदाहरण पेश करने में सफल हुआ है।

सूबे के मुखिया ने कहा कि, प्रदेश के हर तबके ने जाति, मत, मजहब से ऊपर उठकर राज्य और केंद्र सरकार द्वारा कोविड-19 की रोकथाम के लिए बनाए गए नियमों का पालन किया है और बचाव को प्राथमिकता दी है। कोरोना महामारी से बचाव का सबसे अच्छा उपाय है कि भारत सरकार और यूपी सरकार की गाइडलाइन का अक्षरश: खुद पालन करें और अपने अनुयायियों व भक्तों को भी पालन करने के लिए प्रेरित करें।

बचाव ही कोरोना का सर्वोत्‍तम उपाय: मुख्‍यमंत्री

मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा कि, कोरोना की पहली लहर पर हमने काबू पाया और आंकड़े दहाई में लेकर आ गए थे, लेकिन अब यह दोबारा तीव्र गति से बढ़ रहा है। कोरोना की पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर खतरनाक रूप में आई है। ऐसे में मेरी आप सभी से अपील है कि बचाव ही कोरोना का सर्वोत्तम उपाय है।

लॉकडाउन लगाने से फिर इनकार   

सीएम ने कहा कि, अभी हम लॉकडाउन की ओर नहीं जा रहे हैं। अभी हमने नाइट कर्फ्यू लगाया है। लॉकडाउन की तरफ जाने की आवश्यकता भी नहीं होनी चाहिए, क्योंकि हमें मानवता के जीवन को भी बचाना है और उनकी जीविका को भी बचाना है। जीवन और जीविका को बचाने के इस क्रम में जो सबसे अच्छे विकल्प हो सकते हैं उन्हीं में यूपी सरकार ने यह व्यवस्था तैयार की है।

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि, पहली लहर की तुलना में कोरोना की दूसरी लहर बेहद तीव्र है। यही वजह है कि मृत्यु दर भी इस बार पहले की तुलना में अधिक है। खास तौर पर जहां घनी आबादी है, वहां कोरोना वायरस से बचाव को लेकर अधिक सतर्कता की आवश्यकता है।

अफवाहों पर ध्‍यान न देने की अपील

उन्‍होंने कहा कि, आप सभी से आग्रह है कि अफवाहों पर ध्यान न दें। राज्य और केंद्र सरकार मिलकर कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास कर रही हैं। ऐसे में यदि कोई अफवाह फैलाने का प्रयास कर रहा है, तो उसकी बातों में आए बिना राज्य की व्यवस्था के साथ जुड़कर अपना योगदान देंगे, तो मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूं कि पिछली बार की तरह इस बार भी हम आपको कोरोना का प्रबंधन देने में सफल होंगे।

पंचायत चुनाव में कांग्रेस प्रत्‍याशियों को जिताने की अपील की

Previous article

नियमों का पालन कराने को सिंघम बने दारोगा का खुद कटा चालान, जानिए मामला

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured