August 14, 2022 11:45 pm
featured दुनिया धर्म

आज दिखेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, लाल रोशनी से जगमग होगा ‘सुपर ब्लड मून’

moon 3 आज दिखेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, लाल रोशनी से जगमग होगा ‘सुपर ब्लड मून’

इस साल का पहला चंद्र ग्रहण आज देखने को मिलेगा। इस बार का ग्रहण इसलिए खास होगा क्योंकि आज  चांद का नजारा कुछ अलग ही होने वाला है। ग्रहण के समय आज चांद सबसे ज्यादा चमकदार होगा। आज हम आपको बताएंगे कि यह चंद्र ग्रहण इतना खास क्यों है।

क्यों दिया गया ब्लड मून का नाम ?

आज यानि 26 मई को होने वाले चंद्र ग्रहण को ब्लड मून का नाम दिया गया है। इस दौरान पृथ्वी का चक्कर काटते समय स्थिति ऐसी बन जाती है कि पृथ्वी की छाया चंद्रमा की रोशनी को ढक लेती है। चंद्रमा के निकट आ जाने से यह आकार में बड़ा और चमकीला दिखता है। जिस कारण कई बार चांद पूरी तरह लाल दिखाई देता है। जिसके चलते इसे ब्लड मून का नाम दिया गया।

क्या होता है चंद्र ग्रहण ?

जब चंद्रमा पृथ्वी की छाया में पूरी तरह छिप जाता है तब चंद्र ग्रहण लगता है। गौरतलब है कि पृथ्वी की तरह ही चंद्रमा का आधा हिस्सा सूरज की रोशनी में प्रकाशित रहता है। पूर्ण चंद्र के हालात तब बनते हैं जब चंद्रमा और सूरज पृथ्वी की विपरीत दिशा में होते हैं और वह उसकी छाया से होकर गुजरता है । इससे पूर्ण चंद्र ग्रहण होता है।

यहां से दिखेगा चंद्र ग्रहण

आज का चंद्र ग्रहण पूर्वी एशिया, प्रशांत महासागर, उत्तरी एवं दक्षिणी अमेरिका के ज्यादातर हिस्सों में और आस्ट्रेलिया में पूरा नजर आएगा। जबकि भारत के लोग आंशिक चंद्र ग्रहण का आखिरी भाग ही देख सकेंगे। भारत में नॉर्थ ईस्ट, पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों और ओडिशा के तटीय इलाकों , अंडमान और निकोबार द्वीप से यह थोड़ी देर के लिये ही नजर आएगा। भारतीय समय के अनुसार दोपहर 3 बजकर 15 मिनट पर शुरू होकर 6 बजकर 22 मिनट तक यह ग्रहण रहेगा।

2021 में ही दिखेगा अगला चंद्रग्रहण

आज के चंद्र ग्रहण के बाद भारते में अगला चांद 19 नवंबर को देखने को मिलेगा। जो एक आंशिक चंद्र ग्रहण होगा। ग्रहण के ठीक बाद अरुणाचल प्रदेश और असम के कुछ हिस्सों में बेहद कम समय के लिए ये आंशिक चरण में नजर आएगा।

9 घंटे पहले ही शुरू हो जाता है सूतक काल !

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार सूतक काल चंद्र ग्रहण के 9 घंटे पहले ही शुरू हो जाता है। हालांकि यह एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण है । जो भारत में यह कुछ जगहों से दिखाई देगा। इसलिए इस चंद्रग्रहण का यहां कोई सूतक काल नहीं होगा।

Related posts

आजम खान ने फिर दिया विवादित बयान, इस बार अंबेडकर का किया अपमान

bharatkhabar

LIVE: अरूण जेटली ने प्रेस कांफ्रेंस कर दिए सीबीआई पर जवाब

Rani Naqvi

आरक्षण और अल्पसंख्यक शिक्षण संस्थानों से कोई छेड़छाड़ नहीं: जावड़ेकर

bharatkhabar