September 23, 2021 10:35 am
featured राजस्थान

सचिन पायलट के कांग्रेस में वापसी के बाद भी गहलोत क्यों उठाना चाहते हैं ये कदम, आखिर क्या है मकसद

sachin pailot सचिन पायलट के कांग्रेस में वापसी के बाद भी गहलोत क्यों उठाना चाहते हैं ये कदम, आखिर क्या है मकसद

लंबे समय तक सियासी घमासान झेल कर अब जाकर राजस्थान में कांग्रेस पटरी पर आई है। सचिन पायलट के कांग्रेस में वापसी के बाद वैसे तो कांग्रेस पर कोई खतरा नहीं रह गया है

जयपुर। लंबे समय तक सियासी घमासान झेल कर अब जाकर राजस्थान में कांग्रेस पटरी पर आई है। सचिन पायलट के कांग्रेस में वापसी के बाद वैसे तो कांग्रेस पर कोई खतरा नहीं रह गया है। लेकिन इसके बाद भी सीएम अशोक हगलोत किसी भी तरह का खतरा मोल लेने के मूड में नहीं है। गहलोत के समर्थक विधायकों की वापसी के पास अब अशोक गहलोत के पास पूर्ण बहुमत है। अशोह गहलोत इसको लेकर शुक्रवार को होने वाले विधानसभा सत्र के दौरान विश्वास मत हालिस करेंगे और पूर्ण बहुमत साबित करेंगे।

बता दें कि कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि ऐसा बहुत कम होता है कि सत्ता में रहने वाली सरकार खुद विश्वास मत लाए। लेकिन अशोक गहलोत ऐसा करने जा रहे वो विधानसभा सत्र के दौरान प्रस्ताव पेश करेंगे। विधानसभा सत्र 14अगस्त से शुरू होने जा रहा है। हालांकि गहलोत सरकार के सामने अब किसी भी तरह की कोई चिंता की बात नहीं है। लेकिन उसके बाद भी पार्टी सोची समझी रणनीति के तहत विश्वास मत हासिल करना चाहती है। ऐसा करने से सरकार को 6 महीने का वक्त मिलेगा। ताकि पार्टी मंत्रिमंडल और संगठन में बदलाव कर सके। 

https://www.bharatkhabar.com/lg-addressed-the-representatives-of-panchayats-and-local-bodies/

वहीं भले ही राजस्थान में कांग्रेस में चल रहा विवाद खत्म हो गया हो लेकिन पार्टी में नाराज़गी का दौर अभी भी जारी है। जिन विधायकों ने पार्टी के साथ बगावत की थी गहलोत गुट के  विधायकों,  बागी विधायकों से नाराज़ है।  उनका कहना है कि बागी विधायकों को 6 महीने तक संगठन में किसी भी तरह का कोई पद नहीं दिया जाए। संकट के वक्त पार्टी के साथ खड़े रहने वाले विधायकों के हक में किसी भी तरह का कोई समझौता न किया जाए।  

साथ ही इस बीच सचिन पायलट की जो भी शिकायतें हैं उनको दूर करने के लिए पार्टी की 3 सदस्य समिति भी अपनी रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष को पेश करेगी। इस रिपोर्ट की सिफारिश के बाद पार्टी में जो भी नाराज़गी है वो दूर होगी और अगर आने वाले समय में विधायक बगावत पर उतरेंगे तो पार्टी को इससे कोई नुकसान नहीं होगा। 

Related posts

दुश्मनों के होश उड़ाने वाली मिसाइल ‘अग्नि-5’ का सफल परिक्षण

Rahul srivastava

पंजाब कांग्रेस में खत्म हुई कलह ! नवजोत सिंह सिद्धू बनाए जाएंगे पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष

pratiyush chaubey

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का चेन्नई दौरा, सुरक्षा के लिए 5 हजार पुलिसकर्मियों की तैनाती

pratiyush chaubey