featured देश यूपी राज्य

बुखार की चपेट में आया पूरा गांव, पिछले पंद्रह दिनों में हुई लगभग 7 लोगों की मौत   

999 बुखार की चपेट में आया पूरा गांव, पिछले पंद्रह दिनों में हुई लगभग 7 लोगों की मौत   

नोएडा : बीजेपी की केंद्र में सरकार बनने के बाद से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वच्छता अभियान चलाकर सबसे ज़्यादा सफ़ाई रखने पर ज़ोर दे रहे हैं। वहीं नेताओं से लेकर अधिकारी तक झाड़ू पकड़कर फ़ोटो खींचते नज़र आते हैं। मगर क्या हक़ीक़त में ज़मीन पर सफ़ाई अभियान चल रहा है?  इसका नज़ारा हरदोई के मलईयाँ गांव में देखने को मिला है। जहां एक मछली पालने वाले तालाब में प्रदूषित पानी और गांव में गंदगी के चलते पूरा गांव ही बुख़ार की चपेट में आ गया है। वहीं पिछले 15 दिनों में लगभग 7 लोगों की मौत हो चुकी है।

999 बुखार की चपेट में आया पूरा गांव, पिछले पंद्रह दिनों में हुई लगभग 7 लोगों की मौत   

स्वास्थ्य विभाग ने किया दावा

गांव में बुखार ने इस कदर तबाही मचा रखी है कि गांव के हर घर में कोई न कोई बुख़ार से पीडित है। दर्जनों लोग का अलग अलग अस्पतालों में इलाज करा रहे है। वहीं स्वास्थ विभाग की टीम गांव जाने का दावा कर रही है। मगर बीमारी की असली वजह अब तक पता नहीं चल पाई है। और बुख़ार का क़हर की थमने का नाम नहीं ले रहा है।

गांव में पसरा सन्नाटा

गांव में हो रही लगातार मौतों से इलाके में सन्नाटा पसरा हुआ है। लोग दहशत में हैं। कि कब क्या पता अगला नंबर उन्हीं के घर से न हो। आपको बता दें  कि पिछले वर्ष भी बुखार से इस गांव में एक दर्जन से ज्यादा मौतें हुईं थीं। वहीं गांव में फैले इस बुख़ार का कारण तालाब में शुरू हुए मछली पालन को मानते हैं।

पूरा गांव में लगा गंदगी  का अंबार

स्थानीय लोगों का कहना है कि जब से गांव के तालाब में कुछ लोगों ने मछली पालन शुरू किया है तभी से यहां इस बिमारी ने अपना पैर फैलाना शुरू कर दिया है। पूरे गांव में गन्दगी का अंबार लगा हुआ है। नालियां गंदगी से भरी हुई हैं। ग्रमीणों के मुताबिक़ सफाई कर्मी यहां कभी नहीं आता है।

ये भी पढ़ें : बारिश के कारण गिरा दो मंजिला मकान, दो लडकियों की हुई मौत

ग्रामीणों ने लगाया यह आरोप

वहीं गांव की इस तबाही की ख़बर के बाद स्वास्थ महकमा गांव में टीम भेजकर मरीज़ों का परीक्षण कराने का दावा कर रहा है। मगर ग्रामीणों का कहना है कि डाक्टरों की टीम गांव में आई नहीं है आई भी तो केवल खानापूर्ति कर चली गयी।

प्रधान ने भी जताई नाराजगी

वहीं सीएचसी अस्पताल के डाक्टर शहनवाज़ आलम का कहना है कि मलइयाँ गांव में बुख़ार फैला हुआ है, और डाक्टरों की टीम तीन बार गांव जाकर लोगों का परीक्षण कर मरीज़ों को दवाएं उपलब्ध करा रही है।  वहीं प्रधान का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में ध्यान नहीं दे रही है। टीम गांव में आती तो है मगर  खानापूर्ति करके चली जाती है।

by ankit tripathi

Related posts

महापुरुषों का जीवन जन मानस के लिये प्रेरणादायक: सुनील भराला

Trinath Mishra

प्रियंका गांधी ने पूछा सरकार से सवाल, 22 लोगों की मौत का जिम्मेदार कौन ?

pratiyush chaubey

29 महीनों से पीएम मोदी कर रहे हैं नॉन स्टॉप काम, नहीं ली एक भी छुट्टी

Rahul srivastava