putin 1 रूस के राष्ट्रपति पुतिन की इयर एंडर प्रेस कॉन्फ्रेंस, दे रहे इन गंभीर सवालों का जवाब

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक “डायरेक्ट लाइन” सत्र के साथ अपनी वार्षिक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की. जिसमें देश भर के पत्रकारों और आम लोगों के दर्जनों सवालों का जवाब पुतिन की ओर से दिया गया.

इस साल राष्ट्रपति कोरोनावायरस महामारी के कारण अपने नोवो-ओगारयोवो निवास से लाइव सवाल ले रहे हैं. जबकि पत्रकार और फोटोग्राफर कई प्रेस सेंटरों में मौजूद हैं.
सम्मेलन के दौरान पुतिन ने रूस की अर्थव्यवस्था, सामाजिक नीतियों, राष्ट्रीय परियोजनाओं और कुछ क्षेत्रों की समस्याओं से संबंधित सवालों के जवाब दिये. साथ ही देश की विदेश नीति से संबंधित सवाल भी पुतिन के सामने रखे गए. वर्ष की अंतिम प्रेस कॉन्फ्रेंस में 3-4 घंटे लगने की उम्मीद है, जैसा कि 2004 के बाद से होता आ रहा है.

पुतिन ने कहा- COVID-19 को लेकर अफवाहों पर टिप्पणी नहीं करना चाहता
कोविड-19 को लेकर पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए पुतिन ने कहा कि जहां तक कोरोनावायरस की उत्पत्ति की बात है, बहुत सारी अफवाहें हैं. राष्ट्रपति ने कहा, मैं इस पर पूरे देश और दुनिया से बात करने पर टिप्पणी नहीं करना चाहूंगा. इसलिए क्योंकि हमें किसी के खिलाफ किसी भी आरोप का कोई सबूत नहीं दिख रहा है.
उन्होंने जोर देकर कहा, ‘ अब हमें दोषी [पार्टियों] की तलाश नहीं करनी चाहिए, लेकिन इस मुद्दे से लड़ने के प्रयासों में शामिल होना चाहिए, ये हमारे सहयोग की सबसे उपयुक्त दिशा होगी.

‘महामारी पर काबू पाने के लिये मास वैक्सीनेशन सबसे अच्छा तरीका’
राष्ट्रपति ने जोर देकर कहा, रूस के पास वर्तमान में बड़े पैमाने पर प्रतिरक्षण के लिए पर्याप्त टीकों का उत्पादन करने के लिए आवश्यक उपकरणों की कमी है, लेकिन वो अपनी उत्पादन सुविधाओं को बढ़ा देगा.

COVID-19 प्रतिरक्षण पर पुतिन का जवाब
नोवोसिबिर्स्क के एक सवाल के जवाब में पुतिन ने कहा कि उनके पास टीका नहीं है, वह स्वास्थ्य देखभाल मार्गदर्शन का अनुसरण करते हैं लेकिन जैसे ही उन्हें अनुमति मिलेगी, यह होगा. वह टीका प्रभावी और सुरक्षित है.

पुतिन- COVID-19 परीक्षण के मामले में दुनिया के शीर्ष 3 देशों में रूस
उन्होंने कहा कि रूस COVID-19 परीक्षण के मामले में दुनिया के शीर्ष 3 देशों में से एक है, और महत्वपूर्ण बात ये है कि कोरोनावायरस वैक्सीन के उत्पादन में सबसे आगे है. राष्ट्रपति ने आगे कहा कि उन्हें विश्वास है कि रूस टीकों के उत्पादन पर काम करने के लिए अन्य देशों के साथ प्रभावी ढंग से प्रयासों में शामिल होगा.

सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों को नोटिस जारी करने की बात कही, चीफ जस्टिस बोले- किसानों से बात करके ही फैसला सुनाएंगे

Previous article

किसानों का आंदोलन बढ़ा रहा भाजपा की मुश्किलें, बीजेपी मुख्यालय में हो रही बैठक, अमित शाह समेत कई मंत्री पहुंचे

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.