835fe990 e8a7 4a67 9864 19556e4782cf RBI ने HDFC बैंक पर लगाई ये पाबंदियां, नए क्रेडिट कार्ड पर रोक
प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली। इन दिनों देश कोरोना जैसी भंयकर महामारी से जूझ रहा है। आए दिन लाखों की संख्या में कोरोना संक्रमित केस सामने आ जाते हैं। इसी बीच आरबीआई की तरफ से बैंकों को रोज झटके देने के मामले सामने आते रहते हैं। आरबीआई ने भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की ओर से निजी क्षेत्र के बैंक HDFC बैंक को एक बार फिर झटका लगा है। रिजर्व बैंक ने एचडीएफसी बैंक पर कुछ पाबंदियां लगाते हुए बैंक की सभी डिजिटल लॉन्चिंग को रोक दिया है। आरबीआई की ओर से लगाई गई रोक में नए क्रेडिट कार्ड भी शामिल है। आरबीआई पूर्व में भी कई बार एचडीएफसी बैंक पर ऐसी पाबंदियां लगा चुका है। अभी हाल ही में आरबीआई ने लक्ष्मी बैंक और अन्य कई बैंको पर भी कुछ समय के लिए पाबंदियां लगा दी थी।

खुद जवाबदेही तय करे बैंक-

बता दें कि रिजर्व बैंक ने एचडीएफसी बैंक पर कुछ पाबंदियां लगाते हुए बैंक की सभी डिजिटल लॉन्चिंग को रोक दिया है। हालांकि आरबीआई की ओर से लगाई गई ये रोक स्थायी नहीं है। वहीं पिछले दो सालों के भीतर ही ये तीसरा मौका है, जब एचडीएफसी बैंक को झटका लगा है। इस रोक के बारे में जानकारी देते हुए एचडीएफसी बैंक ने बताया है कि बैंक की डिजिटल लॉन्चिंग को आरबीआई ने अस्थायी रूप से रोकने का आदेश दिया है। इसमें नए क्रेडिट कार्ड जारी करने पर भी रोक लगाई गई है। साथ ही आरबीआई ने कहा है कि प्राइवेट बैंक के बोर्ड को खामियां दूर करते हुए जवाबदेही तय करनी चाहिए। आरबीआई पूर्व में भी कई बार एचडीएफसी बैंक पर ऐसी पाबंदियां लगा चुका है। अभी हाल ही में आरबीआई ने लक्ष्मी बैंक और अन्य कई बैंको पर भी कुछ समय के लिए पाबंदियां लगा दी थी। आरबीआई के द्वारा कुछ बैंको पर पाबंदियां उनके कर्ज में डूबने के कारण लगा दी जाती है और बाद में उन्हें किसी दूसरे बैंक में विलय कर दिया जाता है।

 

Trinath Mishra
Trinath Mishra is Sub-Editor of www.bharatkhabar.com and have working experience of more than 5 Years in Media. He is a Journalist that covers National news stories and big events also.

एक झटके में खत्म हो गया दुनिया का सबसे ताकतवर एंटीना, करीब 89.46 करोड़ रुपए का हुआ नुकसान

Previous article

अलाव का सहारा लेकर ठंड में रात बीता रहे किसान, केंद्र सरकार के कानों तक नहीं पहुंच रही किसान आंदोलन की आवाज

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.