November 27, 2021 2:01 am
featured दुनिया

8 नवंबर से अमेरिका में लगभग सभी 5-11 साल के बच्चों को फाइजर की डोज

vaccine child 1599826022 8 नवंबर से अमेरिका में लगभग सभी 5-11 साल के बच्चों को फाइजर की डोज

दुनिया भर में कोरोना का कहर आज भी जारी है। ऐसे में बच्चों को लेकर खतरा ज्यादा बना हुआ है। क्यों कि 5 साल से लेकर 14 साल तक के बच्चों को अभी तक कोरोना की वैक्सीन नहीं दी गई है। व्यस्क लोगों को बचाने के लिए लगातार टीकाकरण किया जा रहा है। ताकि उनको कोरोना से बचाया जा सके। वहीं अब अमेरिका में बच्चों की वैक्सीन की उम्मीद लगाए बैठे अभिभावकों का इंतजार भी खत्म होने वाला है। दरअसल, अमेरिका में आठ नवंबर से 5-11 साल के बच्चों को फाइजर की वैक्सीन लगाई जाएगी।

08 09 2021 09 04 2021 vaccine 21541905 22003041 8 नवंबर से अमेरिका में लगभग सभी 5-11 साल के बच्चों को फाइजर की डोज

वहीं इस सफलता पर राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि यह हमारे लिए एक ‘टर्निंग प्वाइंट’ है। राष्ट्रपति बाइडेन ने कहा कि काफी समय से अमेरिका में बच्चों की कोरोना वैक्सीन के लिए लगाए बैठे अभिभावकों का इंतजार खत्म होने वाला है।
अमेरिका का यह फैसला बच्चों द्वारा दूसरों को वायरस फैलाने की आशंकाओं को कम करेगा। बच्चों की सुरक्षा की दृष्टि से यह हमारे देश के लिए अहम कदम है। बता दें कि 29 अक्तूबर को अमेरिकी खाद्य और औषधि प्रशासन (FDA) ने इसकी मंजूरी दे दी थी, इसके बाद अब इसे सरकार द्वारा भी हरी झंडी मिल गई है।

Covid19 Vaccination 8 नवंबर से अमेरिका में लगभग सभी 5-11 साल के बच्चों को फाइजर की डोज

बता दें कि 29 अक्तूबर को अमेरिकी खाद्य और औषधि प्रशासन (FDA) ने इसकी मंजूरी दे दी थी, इसके बाद अब इसे सरकार द्वारा भी हरी झंडी मिल गई है। फडीए ने छोटे बच्चों में फाइजर के टीके की 10-माइक्रोग्राम खुराक को अधिकृत किया है। वहीं, 12 साल और उससे ज्यादा उम्र वाले बच्चों के लिए मूल शॉट 30 माइक्रोग्राम है। अमेरिका के बाद संयुक्त अरब अमीरात(यूएई) ने भी अपने यहां 5 से 11 साल के बच्चों के लिए फाइजर की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। बता दें कि यूएई में 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए फाइजर की वैक्सान को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है।

Covid Vaccine Lucknow 8 नवंबर से अमेरिका में लगभग सभी 5-11 साल के बच्चों को फाइजर की डोज

वहीं इससे पहले एफडीए के अधिकारी जेनेट वुडकॉक ने अपने बयान में कहा था कि कोविड-19 के खिलाफ छोटे बच्चों का टीकाकरण हमें सामान्य स्थिति में लौटने के करीब लाएगा। टीके की सुरक्षा और प्रभावशीलता से संबंधित डाटा के व्यापक और कठोर मूल्यांकन से माता-पिता और अभिभावकों को आश्वस्त करने में मदद मिलेगी कि यह टीका हमारे उच्च मानकों को पूरा करता है।

Related posts

लंदन स्थित सरे विश्वविद्यालय की शोध, स्किन स्वैब के नमूने से भी लगाया जा सकता है कोरोना वायरस का पता

Aman Sharma

भाजपा की जीत के लिए मोदी ने कहा जनता को शुक्रिया

kumari ashu

सूर्य को अस्ताचल अर्घ्य देने की तैयारी,देहरादून में छठ पूजा के लिए बनाए गए घाट

mahesh yadav