featured देश यूपी राज्य

पीट-पीटकर हुई हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भेजा योगी सरकार को नोटिस

supreem court 1 पीट-पीटकर हुई हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भेजा योगी सरकार को नोटिस

नई दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने हापुड़़ में गौवध के संदेह में 2 व्यक्तियों पर कथित रूप से उग्र भीड़ के हमले की घटना के सिलसिले में उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस जारी किया। इस हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। न्यायालय ने मेरठ रेंज के पुलिस महानिरीक्षक को इस मामले की जांच कर 2 सप्ताह के भीतर रिपोर्ट पेश करने का भी निर्देश दिया है।

supreem court 1 पीट-पीटकर हुई हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने भेजा योगी सरकार को नोटिस

राज्य सरकार को नोटस

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की पीठ ने इस हमले में जख्मी हुए समीउद्दीन की याचिका पर राज्य सरकार को नोटस जारी किया। इस याचिका में सारी घटना की विशेष जांच दल से जांच कराने और इससे संबंधित मुकदमे की सुनवाई राज्य से बाहर कराने का अनुरोध किया गया है। पीठ ने हापुड़ जिले के पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिया कि वह इस हमले में बच गए समीउद्दीन को सुरक्षा प्रदान करने के उसके अनुरोध पर विचार करें। न्यायालय ने इसके साथ ही इस मामले में 28 अगस्त को आगे विचार करने का निश्चय किया है।

संदेह में किया गया हमला

पीठ ने समीउद्दीन के वकील के इस कथन पर विचार किया कि उनके मुवक्किल और मांस के कारोबारी कासिम कुरैशी पर 18 जून को उग्र भीड़ ने इस संदेह में हमला किया कि वे गौवध में शामिल हैं जबकि पुलिस ने भीड़ के हमले की बजाए रोड रेज का मामला दर्ज किया है। इस हमले में 45 वर्षीय कुरैशी की बाद में मौत हो गई थी।

वीडियो सामने आने का जिक्र

याचिका में इस घटना के मुख्य आरोपी युधिष्ठिर सिंह सिसोदिया और अन्य आरोपियों की जमानत रद्द करने का भी अनुरोध किया गया है। याचिका में एक मिनट का एक वीडियो सामने आने का भी जिक्र किया गया है जिसमें यह बताया गया है कि यह रोड रेज का नहीं बल्कि भीड़ द्वारा पीटने का मामला था।

ये भी पढ़ें-

हत्यारे पति को कोर्ट ने सुनाई आजीवन कारावास की सजा और पांच हजार का जुर्माना

by ankit tripathi

Related posts

जान देने को तैयार पर सम्मान के साथ समझौता नही,सरकार के फैसले से दुखी डाक्टर

sushil kumar

सूबे में हाई अलर्ट के बाद भी नहीं नजर आ रहे पुलिसकर्मी

Pradeep sharma

30 दिसंबर के बाद भी किसी बड़े एलान के लिए तैयार रहेंः पीएम मोदी

Rahul srivastava