पटना रेलवे पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, कोमल ट्रैवल छापेमारी में सवा करोड़ के अवैध टिकट बरामद, दो गिरफ्तार

पटना रेलवे पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, कोमल ट्रैवल छापेमारी में सवा करोड़ के अवैध टिकट बरामद, दो गिरफ्तार

पटना। आरपीएफ ने सवा करोड़ की बेची हुई अवैध रेल टिकट का भंडाफोड़ किया एवं लाखों रुपए के अवैध रेल टिकट को जब्त किया जो बेचने वाले थे। दरअसल रेलवे पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि , कोमल ट्रैवल में अवैध रूप से बड़े स्तर पर रेल टिकट की बिक्री होती है । गुप्त सूचना के आधार पर रेलवे पुलिस ने जांच की जिसमें सत्य पाया गया।छापेमारी में 234400 ( दो लाख चौतीस हजार चार सौ ) रूपये के 86 फ्यूचर ई- टिकट जो बेचने वाले थें को बरामद किया गया । इसके अलावा 12447500 (एक करोड चौबीस लाख सैतालिस हजार पांच सौ ) रपये के 5875 Previous टिकट बरामद किया गया।

2017 से अभी तक का कुल एक करोड छब्बीस लाख ऐकासी हजार नौ सौ चालीस) रूपये का 9363 ई -टिकट सहित कंप्यूटर सेट एवं अन्य सामग्री आज बरामद किया गया। कोमल ट्रैवल में काम कर रहे नालंदा जिला के सिलाव थाना क्षेत्र के इंद्रजीत प्रसाद सिंह (उम्र 58 साल) को रेलवे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया । जबकि दुकान के मालिक एवं एक अन्य एक साथी फरार बताए जा रहे हैं। रात पटना रेलवे पुलिस ने बताया कि इस मामले को लेकर के रेल कांड संख्या 276/19 दिनांक 7- 2-2019 अंतर्गत धारा 143 रेल अधिनियम दर्ज किया गया और मामले की जांच की जा रही है।

छापेमारी टीम का नेतृत्व आरपीएफ पटना के निरीक्षक प्रभारी विश्वनाथ कुमार कर रहे थें।टीम में उपनिरीक्षक संजीव कुमार, उप निरीक्षक कुंदन कुमार , दिनेश कुमार, हितेंद्र कुमार ,धर्मराज कुमार थें। रेलवे के दानापुर के डीएससी चंद्र मोहन मिश्रा ने आज रात कहा कि आईजी रविंद्र वर्मा का मार्गदर्शन है । टीम हमारी अच्छा काम कर रही है । छोटे से समय में बड़ा अचीव किया है ।

उन्होंने कहा कि गिरफ्तार इंद्रजीत पहले 2010 में भी गिरफ्तार हो चुका था। हालांकि वह पहले छोटे स्तर पर काम करता था । उन्होंने कहा कि दो लोग और हैं। जिसकी पहचान कर ली गई है । वह दोंनो दुकान में नहीं थे। उन्हें भी जल्दी गिरफ्तार कर ली जाएगी। उन्होंने साफ कहा कि पटना में रहकर इस तरह का काम नहीं कर सकते । उन्होंने कहा कि पर्सनल आईडी बनाकर ये धंधेबाज रेल टिकट बुक करते हैं और जनरल नाम पर टिकट बुक कर मनमानी दान में बेचते हैं। रेलवे के दानापुर के डीएससी चंद्र मोहन मिश्रा ने कहा इस तरह का अभियान आगे भी जारी रहेगा ।

 अतीश दीपंकर