featured क्राइम अलर्ट देश पंजाब राज्य

युवाओं में गैंगस्टर बनने की होड़?, छात्र राजनीति में फेल हुए तो बन गए गैंगस्टर, एथलीट बन गया जुर्म की दुनिया का बादशाह

up crime in jail 1 युवाओं में गैंगस्टर बनने की होड़?, छात्र राजनीति में फेल हुए तो बन गए गैंगस्टर, एथलीट बन गया जुर्म की दुनिया का बादशाह

पंजाब में सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद से गैंगस्टरों की कुंडली खंगाली जा रही है। ऐसे में एक ऐसी चीज निकलकर सामने आई जो हैरान करने वाली थी।

यह भी पढ़े

 

‘अग्निवीर’ सैनिकों का केंद्र सरकार ने बताया फ्यूचर प्लान, चार साल बाद मिलेंगे ये लाभ

 

अगर हम कहें कि पंजाब के टॉप मोस्ट गैंगस्टरों का जुर्म की दुनिया में पहुंचने का रास्ता छात्र राजनीति से जाता है तो ये कहना गलत नहीं होगा। क्योंकि पंजाब के अधिकतर गैंगस्टर छात्र नेता से ही जुर्म की दुनिया के बेताज बादशाह तक का सफर तय किए हुए हैं। इनमें लॉरेंस बिश्नोई से लेकर गोल्डी बराड़ तक के नाम शामिल हैं। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि छात्र राजनीति से कैसे कई सारे छात्र नेता आज टॉप मोस्ट गैंगस्टरों की सूची में शामिल हैं।

स्कूल से कॉलेज में दाखिला लेने के बाद सपनों को पंख लगते हैं। एक नया आसमान में उड़ने के लिए कई मौके होते हैं। जरूरत होती है दिशा तय करने की। युवाओं में कुछ अधिकारी बनकर देश सेवा करना चाहते हैं तो कुछ छात्र राजनीति से उठकर समाजसेवा के क्षेत्र में आगे बढ़ने का प्रयास करते हैं। छात्र राजनीति में छोटे-छोटे झगड़े भी होते हैं। लेकिन किसे पता था कि यही झगड़े किसी छात्र नेता को गुनाह के उस रास्ते पर लेकर पहुंच जाएंगे जहां लाशों के ढेर पर चढ़कर बादशाहत और दहशत कायम करनी पड़ी है। पंजाब के कई नौजवान भी इसी तरह छात्र नेता से गुनाह के दलदल में फंसते चलते गए और जब तक उन्हें इसका एहसास भर भी होता तब तक वो जुर्म की दुनिया के वो खूंखाकर मुजरिम बन चुके थे। जिन्हें आज बच्चा बच्चा जानता है। इनमें कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई गैंगस्टर गोल्डी बराड़ से लेकर गैंगस्टर संपत नेहरा तक शामिल हैं।

लॉरेंस बिश्नोई जुर्म की दुनिया का बादशाह!

साल 1993 में पंजाब के फाजिल्का जिले में जन्मे लॉरेंस बिश्नोई ने चंडीगढ़ से पढ़ाई की। लॉरेंस के पिता पुलिस में कांस्टेबल रह चुके हैं। पढ़ाई के दौरान उसने छात्र राजनीति में कदम रखा। यहीं उसकी मुलाकात गोल्डी बराड़ से हुई। उसने यहां छात्र संघ का चुनाव लड़ा लेकिन हार गया। इसके बाद समय बीतने के साथ ही लॉरेंस छात्र नेता से अपराध की दुनिया में बड़ा चेहरा बनता गया। सिद्धू मूसेवाला की हत्या में भी वह शामिल है।

भाई की हत्या के बाद छात्र नेता से गैंगस्टर बन गया गोल्डी

पंजाबी गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाले पूर्व छात्र नेता गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने भाई गुरलाल बराड़ की मौत के बाद अपराध की दुनिया में पैर रखा था। स्टडी वीजा पर कनाडा गया गोल्डी चचेरे भाई की हत्या के बाद सक्रिय हो गया था। गोल्डी छात्र राजनीति में छोटी लड़ाइयों में शामिल रहता था। उसके बाद गोल्डी ने कनाडा से ही एक के बाद एक लोगों की ‌हत्या करवाना शुरू कर दिया।

एथलीट से गैंगस्टर बन गया संपत नेहरा

जुर्म की दुनिया एक ऐसा दलदल है जिसमें पांव रखने वाले अच्छे से अच्छा इंसान भी वापस नहीं निकल पाता। कुछ ऐसा ही हुआ गैंगस्टर संपत नेहरा के साथ एक अच्छा एथलीट राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में गोल्ड मेडल जीतने वाले खिलाड़ी कब जुर्म की दुनिया में अपने पांव जमा बैठा किसी को पता तक नहीं लगा। संपत नेहरा ने सोपू से छात्र राजनीति में कदम रखा। यहां हुए कुछ झगड़ों के बाद गैंगस्टर की नींव पड़ी और वह कुख्यात गैंगस्टर बन गया। संपत नेहरा के खिलाफ अब तक 20 हत्या के केस समेत कई अपराधिक केस दर्ज हैं। संपत नेहरा बॉलीवुड कलाकार सलमान खान को मारने की साजिश करते हुए पकड़ा गया था।

गैंगवार में पूर्व छात्र नेता गुरलाल की हत्या

पंजाब धीरे धीरे गैंगवार और गैंगस्टरों का गढ़ बनता जा रहा था और इसी गैंगवार में 11 अक्टूबर 2020 की रात इंडस्ट्रियल एरिया फेस-1 स्थित एक क्लब के बाहर गोल्डी बराड़ के भाई पीयू के छात्रनेता गुरलाल बराड़ की गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। सोपू पार्टी के गुरलाल की हत्या की जिम्मेदारी सोशल मीडिया पर बंमबिहा ग्रुप ने पोस्ट डालकर ली थी। पोस्ट में इस हत्या को गैंगवार से जोड़ा गया था।

छात्र ‌नेता विक्की मिड्डूखेड़ा की हत्या

7 अगस्त 2021 को विक्की मिड्डूखेड़ा की मोहाली सेक्टर-71 में गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। इस हत्या की जिम्मेदारी बंबिहा ग्रुप ने सोशल मीडिया पर पोस्ट डालकर ली थी। विक्की मिड्डू खेड़ा पंजाब यनिवर्सिटी की छात्र राजनीति में काफी सक्रिय रहा था। वह सोई का सदस्य था।

चंडीगढ़ का लक्की पटियाल चला रहा बंबिहा ग्रुप

दविंदर बंबिहा का साल 2016 में पुलिस ने एनकाउंट कर दिया था। इसके बाद से इस गैंग को खुड्डालाहौरा निवासी लक्की पटियाल चला रहा है। लक्की पटियाल विदेश में बैठकर विरोधी गैंग के लोगों की हत्या करवा रहा है। लक्की पटियाल भी पीयू की छात्र राजनीति में काफी सक्रिय रहा था। वह सोई पार्टी में शामिल था।

सोई के प्रेसिडेंट पर गोली चलाने वाला रिंदा बना आतंकवादी

पाकिस्तान में बैठा रिंदा कभी पीयू में सोपू पार्टी की समर्थन में आता था। रिंदा ने साल 2016 में चुनाव के दौरान सोई के तत्कालीन अध्यक्ष पर गोली चलाई थी। इसके बाद उसने चंडीगढ़ पुलिस के निरीक्षक नरेंद्र पटियाल की भी हत्या की भी साजिश रची थी। रिंदा ने दिनदिहाड़े दो लोगों के साथ सेक्टर 38 में होशियारपुर के सरपंच की गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। रिंदा साल 2017 से फरार है। इस समय वह पाकिस्तान में बैठा है।

बलजीत चौधरी भी छात्र राजनीति से बना गैंगस्टर

बलजीत चौधरी भी पीयू में छात्र राजनीति में था। वह पूसू पार्टी का छात्र नेता था। इसी राजीति के दौरान छोटी मोटी लड़ाई झगड़ों के बाद उसने अपराध का रास्ता पकड़ लिया। उसके खिलाफ कई अपराधिक केस दर्ज हैं। बलजीत चौधरी पर एक मोडल ने दुष्कर्म का भी आरोप लगाया था। बलजीत को पंजाब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

18 की उम्र में अंकित नरवाल बना गैंगस्टर

सोनीपत के कथूरा गांव का रहने वाला अंकित नरवाल पंजाब यूनविर्सिटी में पढ़ाई के लिए आया। उसने बीए में एडमिशन ली। इस दौरान एनएसयूआई पार्टी का छात्र नेता था। इस दौरान छात्र राजनीति के दौरान मामूली झगड़े के बाद अंकित ने डीएवी कॉलेज के हिंदुस्तान स्टूडेंट एसोसिएशन (एचएसए) से जुड़े दो छात्रों अजय और विनीत की सेक्टर 15 में घर में घुसकर 27 गोलियां मारकर हत्या कर दी थी। इस वारदात को अंजाम उसने 18 साल एक महीने की उम्र में दिया। इसके बाद अंकित अपरध की दुनिया में चला गया। उसके खिलाफ रंगदारी हत्या समेत कई अपराधिक केस दर्ज हैं। अंकित नरवाल कुख्यात गैंगस्टर संपत नेहरा का रिश्तेदार है।

Related posts

श्रीलंका दौरे के लिए इंग्लैंड ने टेस्ट टीम का किया एलान , नवंबर में खेला जाएगा मैच

mahesh yadav

दिल्ली: मेरठ पब्लिक स्कूल फॉर गर्ल्स की नई प्रधानाचार्य बनाई गई हरजिंदर कौर

Saurabh

जांच के लिए नहीं पहुंचा विकास बराला, पुलिस तलाश में जुटी

Pradeep sharma