hadtal अनिश्चितकालीन बंदी के मूड में निकायकर्मी, जानिए क्या है मामला

लखनऊ। लंबित प्रकरणों और मांगों का समाधान नहीं होने की वजह से प्रदेश के निकायकर्मियों में रोष बढ़ता जा रहा है। सरकार की अनदेखी से नाराज चल रहे निकायकर्मी आंदोलन की रणनीति तैयार करने में जुट गए हैं। अगर उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाता है तो वे कभी भी अनिश्चितकाली बंदी का ऐलान कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश स्थानीय निकाय कर्मचारी के प्रदेश अध्यक्ष शशि कुमार मिश्र ने बताया कि प्रदेश सरकार व शासन की उपेक्षा एवं लम्बित प्रकरणों, मांगों का समय से समाधान न किए जाने से आक्रोशित प्रदेश का निकाय कर्मचारी आन्दोलन करने के लिए विवश हो रहा है।

उन्होंने बताया कि लखनऊ महासंघ प्रदेश कार्यालय पर प्रदेश कार्यकारिणी एवं प्रदेश के अन्य सहयोगी संगठनों के साथ बैठक बैठक कर चरणबद्ध आंदोलन की रूपरेखा तैयार की गई है। उन्होंने कहा कि हमारी मांगों को सरकार को पूरा करना ही होगा।

शशि कुमार मिश्रा ने कहा कि 29 जुलाई से 27 अगस्त 2021 तक तीन चरणों में ध्यानाकर्षण आन्दोलन कर मांगों के समाधान हेतु अनुरोध करेंगे। इसके बाद प्रदेश सरकार व शासन के कर्मचारी विरोधी नीतियों एवं कार्यों का लेखा जोखा आम जनमानस तक पहुंचाया जाएगा। इसके लिए पूरे प्रदेश की निकायों के प्रत्येक वार्ड पर मीटिंग, पम्पलेट, सोशल मीडिया और समाचार पत्रों आदि के माध्यम पहुंचाने के बाद अनिश्चितकालीन कार्यबन्दी करेगा।

उन्होंने बताया कि बैठक में कानपुर ईकाई से महासंघ के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रमाकांत मिश्र को प्रदेश महासंघ का कार्यवाहक अध्यक्ष, आगरा ईकाई से उपाध्यक्ष विनोद इलाहाबादी को प्रदेश महासंघ का वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रदेश कार्यकारिणी की आम सहमति से नियुक्त किया गया है।

इस अवसर पर कानपुर नगर निगम एवं गाजियाबाद नगर निगम  वाहन चालक संघ को महासंघ से सम्बद्धता प्रदान की गयी। इसके अतिरिक्त झांसी नगर निगम की ईकाई को आम सहमति से निर्वाचित अध्यक्ष मोहम्मद परवेज एवं महामंत्री गोपाल कृष्ण दुबे को उ.प्र. स्थानीय निकाय कर्मचारी एसोसिएशन, नगर निगम झांसी ईकाई के रूप में व नगर पालिका कर्मचारी संघ, नगर पालिका हाथरस ईकाई के निर्वाचित अध्यक्ष संजय कुमार शर्मा, महामंत्री विजय प्रकाश स्वर्णकार के संगठन को भी महासंघ की सम्बद्धता प्रदान की गयी।

बैठक में प्रदेश की लगभग सभी इकाइयों ने प्रतिभाग किया। जिसमें कानपुर, लखनऊ, गाजियाबाद, आगरा, गोरखपुर, झांसी, बरेली, मुरादाबाद, टुंडला,हाथरस, वाराणसी, आदि ईकाइयां उपस्थित थीं। इन्हीं के साथ, प्रयागराज,मेरठ, फिरोजाबाद, सहारनपुर, मथुरा वृन्दावन, अयोध्या फैजाबाद, शाहजहांपुर, अलीगढ़ इकाइयों द्वारा सभी आन्दोलन को सफल बनाने का आह्वान किया गया।

2.5 अरब साल पहले धरती पर शहरों के बराबर थे ऐस्टरॉइड, 10 गुना ज्यादा थी संख्या

Previous article

योगी सरकार का बड़ा फैसला, कैंसिल की कांवड़ यात्रा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.