खेल राज्यमंत्री ने ‘राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव 2019’ का शुभारंभ किया

खेल राज्यमंत्री ने ‘राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव 2019’ का शुभारंभ किया

युवा कार्यक्रम एवं खेल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने बीते रोज दिल्ली में राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव 2019 का शुभारंभ किया और इसके साथ ही राष्ट्रीय युवा दिवस 2019 के जलसे की शुरुआत हो गई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 31 दिसंबर 2017 को अपने ‘मन की बात’ संबोधन में देश के हर जिले में युवा लोगों की युवा संसदों को आयोजित करने के विचार को साझा किया था।

 

इसे भी पढ़ेंःनमो ऐप से जुड़ने के लिए राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने शेयर की वीडियो, बताया इनोवेटिव

इसके बारे में उन्होंने कहा था कि 2022 से पहले हमारे संकल्पों को साकार करने के रास्ते ढूंढ़ने और योजना बनाने और नए भारत के बारे में मंथन करने के लिए युवाओं को मौका मुहैया करवाया जा सके। उन्होंने 12 जनवरी 2018 को 22वें राष्ट्रीय युवा महोत्सव के दौरान युवाओं को दिए अपने संबोधन में, युवाओं की आवाज को पहचानने के अपने विचार को दोहराया।

राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा कि युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय का ये प्रण है कि वो इस युवा महोत्सव को देश के हर जिले में लेकर जाएगा। इसे ‘राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव’ के तौर पर मनाएगा। जिला युवा संसदों को आयोजित करने और इस महोत्सव को युवाओं के दरवाजे तक ले जाने से देश में बड़ी संख्या में युवाओं को हिस्सा लेने का मौका मुहैया करवाया जा सकेगा।

इसे भी पढ़ें-पीएम मोदी के नमो ऐप के जरिए जयपुर संवाद को लेकर राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा अत्यंत खुशी की बात

गौरतलब है कि राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव 2019 को “नए भारत की आवाज़ बनो” और “उपाय ढूंढो और नीति में योगदान करो” की थीम पर आयोजित किया जा रहा है। जिला युवा संसदों में हिस्सा लेने के लिए 18 से 25 वर्ष के बीच के युवाओं को आमंत्रित किया गया है। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि इस आयु वर्ग के युवाओं की आवाज को सुना जा सके। जिन्हें मतदान करने का अधिकार तो है लेकिन चुनाव लड़ने का नहीं।

राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव युवाओं को प्रोत्साहित करेगी कि वे जनता के मुद्दों से जुड़ें, आम आदमी के नजरिए को समझें, इस पर अपनी राय बनाएं और एक स्पष्ट ढंग से उसे अभिव्यक्त करें। नए भारत के सपने पर प्रासंगिक और प्रभावी आवाजों को पहचाना जाएगा और उनका दस्तावेजीकरण किया जाएगा ताकि उन्हें आगे ले जाने के लिए नीति निर्माताओं और कार्यान्वयनकर्ताओं के समक्ष उपलब्ध करवाया जा सके।