Breaking News यूपी

स्मारक घोटाला: पूर्व मंत्री की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, विजिलेंस ने भेजा नोटिस

स्मारक घोटाला: पूर्व मंत्री की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, विजिलेंस ने भेजा नोटिस

लखनऊ: मायावती की सरकार में लखनऊ सहित प्रदेश के कई हिस्सों में स्मारक घोटाला सामने आया। अब इस मामले में सरकार में रहे मंत्री की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। विजिलेंस ने इस मामले में तत्कालीन बसपा सरकार के दो मंत्रियों को नोटिस भेजा है।

दो पूर्व मंत्रियों से होगी पूछताछ

बसपा शासनकाल में मंत्री रहे, नसीमुद्दीन सिद्दीकी और बाबू सिंह कुशवाहा से अब विजिलेंस की टीम पूछताछ करेगी। उन्हें नोटिस भेज दिया गया है, आपको बता दें कि मायावती की सरकार ने 1400 करोड़ रुपए का स्मारक घोटाला सामने आया। इसी मामले में अब मंत्रियों तक बात पहुंच गई है, विजिलेंस की टीम ने तत्कालीन सरकार में रहे मंत्रियों को अब पूछताछ के लिए बुलवाया है।

निर्माण कार्य से जुड़ी पूरी मॉनिटरिंग पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी कर रहे थे। लखनऊ और नोएडा में ऐसे कई स्मारक बनाए गए हैं, जिसमें गुलाबी पत्थरों का इस्तेमाल किया गया है। इसी मामले में अब पूर्व मंत्रियों से घोटाले से जुड़े सवाल पूछे जाएंगे।

पत्थरों की आपूर्ति से जुड़ा मामला

नसीमुद्दीन सिद्दीकी और बाबू सिंह कुशवाहा से स्मारक निर्माण के दौरान पत्थर आपूर्ति के संबंध में पूछताछ होगी। यह दोनों पूर्व मंत्री अब बसपा से नहीं जुड़े हुए हैं। नसीमुद्दीन सिद्दीकी कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए और बाबू सिंह कुशवाहा ने अपनी अलग पार्टी बना ली है।

हालांकि उस दौरान जब मायावती मुख्यमंत्री थीं तो इन दोनों को मंत्री मंडल में शामिल किया गया था। स्मारक निर्माण घोटाले में अभी तक 23 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिनमें से 6 लोगों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल हो गई है।

Related posts

जल्द की जाएगी पाकिस्तान के नए आर्मी चीफ के नाम की घोषणा

Rahul srivastava

भाजपा ने बागियों पर चलाई निष्कासन की तलवार, 11 लोगों को किया निलंबित

Aditya Mishra

उत्तर प्रदेश की पुलिस बनी भू माफिया : हरदोई

Arun Prakash