भारत और कोरिया गणराज्‍य के 2 मंत्रालयों के बीच सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर किए गए

भारत के युवा कार्य और खेल मंत्रालय एवं कोरिया गणराज्य के संस्कृति, खेल और पर्यटन मंत्रालय के बीच सोमवार को नई दिल्‍ली में एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए गए हैं। सहमति पत्र पर भारतीय पक्ष से युवा कार्य और खेल राज्‍य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और कोरियाई पक्ष का प्रतिनिधित्‍व वहां के संस्‍कृति, खेल और पर्यटन मंत्री डीओ जोंगह्वान ने किया।

 

भारत और कोरिया गणराज्‍य के 2 मंत्रालयों के बीच सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर किए गए
भारत और कोरिया गणराज्‍य के 2 मंत्रालयों के बीच सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर किए गए

 

इसे भी पढ़ेःखेल से जुड़े पुरस्कारों के लिए बीसीसीआई ने सरकार को भेजे नाम

बता दें कि दोनों देशों के बीच मेलजोल और परस्‍पर लाभ के आधार पर सहयोग बढ़ाने के लिए कार्यक्रम निर्धारित करना इस सहमति पत्र का उद्देश्‍य है। इस सहमति पत्र के तहत सहयोग के क्षेत्रों में (A)- प्रशिक्षकों, एथलीटों, विशेषज्ञों का आदान-प्रदान, (B) वैज्ञानिक और प्रक्रियात्‍मक सामग्रियों का आदान-प्रदान, (C) एथलीटों और अधिकारियों के लिए संयुक्‍त प्रशिक्षण (D) दोनों देशों द्वारा आयोजित खेल कार्यक्रमों, सेमिनारों, सिमपोजियमो और सम्‍मेलनों में भागीदारी आदि शामिल हैं। दोनों देश संयुक्‍त निर्णय के मुताबिक सहयोग के विभिन्‍न क्षेत्रों में खेल प्राधिकरणों, खेल परिसंघों और अन्‍य खेल निकायों के बीच आदान-प्रदान और सहयोग आधारित क्रियाकलापों को बढ़ावा देंगे।

राठौड़ ने कोरियाई मंत्री को रामचरित मानस भेंट किया

गौरतलब है कि सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर होने पर प्रसन्‍नता व्‍यक्‍त करते हुए कर्नल राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि इस पहल से दोनों देशों के बीच खेल क्षेत्र के अलावा अन्‍य क्षेत्रों में भी सहयोग बढ़ेगा। उन्‍होंने कहा कि दोनों देशों को तीरंदाजी और ताइक्‍वांडो जैसे खेलों में भी सहयोग करना चाहिए। जिसमें कोरिया गणराज्‍य एक अग्रणी देश है।

इस मोके पर संस्‍कृति, खेल और पर्यटन मंत्री डीओ जोंगह्वान ने कहा कि उनका देश हमेशा खेल के क्षेत्र में भारत के साथ मिलकर काम करने को प्राथमिकता देता है। कोरियाई पक्ष ने राठौड़ को अपने देश में आने का आवाह्न किया।वहीं कर्नल राज्‍यवर्धन सिंह राठौड़ ने कोरियाई मंत्री को रामचरित मानस और महात्‍मा गांधी की सूक्तियों का एक ऑडियो कलेक्‍शन भेंट किया।

महेश कुमार यादव