February 29, 2024 7:59 am
दुनिया भारत खबर विशेष

मसूद अजहर मामला: लोकसभा चुनाव तक चीन साधना चाहता था चुप्पी, लेकिन यूएस के दबाव ने कर दिया चित्त

china masood ajahar 1 मसूद अजहर मामला: लोकसभा चुनाव तक चीन साधना चाहता था चुप्पी, लेकिन यूएस के दबाव ने कर दिया चित्त

नई दिल्ली। चीन मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की प्रक्रिया को भारत में लोकसभा चुनावों के खत्म होने के बाद पूरी करना चाहता था। चीन की कोशिश थी कि किसी तरह से 15 मई के बाद ही यह प्रक्रिया हो। हालांकि, चीन की यह चालाकी काम नहीं आई और अमेरिका ने 30 अप्रैल की डेडलाइन तय कर दी। डेडलाइन को आगे बढ़ाने में नाकाम होने के कारण चीन को यह कदम उठाना पड़ा।
हमारे सहयोगी अखबार इकनॉमिक टाइम्स को विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि फ्रांस, रूस और इंग्लैंड आपसी सहमति से चीन की डेडलाइन बढ़ाने पर सहमत हो गए थे। हालांकि, डेडलाइन बढ़ाने पर सहमति के बाद भी चीन जिस तिथि तक डेडलाइन को ले जाना चाह रहा था, उस पर सहमति नहीं बनी थी। हालांकि, अमेरिका की तरफ से अप्रैल में ही इस डेडलाइन को तय कर चीन की तरफ से लिखित आश्वासन के लिए दबाव बनाया गया था।
सूत्रों के हवाले से पता चला है कि भारत ने अमेरिका को यह संकेत दे दिए थे कि चीन की तरफ से वीटो इस्तेमाल के स्थान पर भारत कुछ समझौतों के साथ ही सही, लेकिन अब यह प्रक्रिया पूरी करना चाहता है। भारत चीन के फिर से वीटो प्रयोग करने के कारण अभीतक के सभी प्रयासों को खारिज करने के लिए तैयार नहीं था। इसके बाद अमेरिका ने अप्रैल के आखिरी सप्ताह से आगे इंतजार नहीं करने की बात दोहराई।

Related posts

ट्रंप को भारी पड़ा महिलाओं से पंगा, कई नेताओं ने छोड़ा साथ !

bharatkhabar

केंद्रीय गृह सचिव ने की वामपंथी उग्रवाद पर समीक्षा बैठक, लिया ये अहम निर्णय

bharatkhabar

भारतीय रेल की जनरल बोगी में अब बॉयोमेट्रिक सिस्टम से मिलेगी सीट, नहीं हेागी मारामारी

bharatkhabar