जानें धनतेरस के दिन खरीदारी का शुभ मुहूर्त,ऐसे पा सकते हैं कर्ज से छुटकारा

धनतेरसः दिवाली का पर्व भारत के बड़े त्योहारों में एक है जो कि इस साल 7 नवंबर, 2018 को मनाया जाएगा। उससे दो दिन पहले यानी सोमवार 5 नवंबर को धनतेरस का त्योहार मनाया जाएगा। कहा जाता है कि धनतेरस के दिन भगवान धनवंतरी का जन्‍म हुआ था। इसलिए इस दिन खासतौर पर उनकी पूजा की जाती है। धनतेरस को मां लक्ष्‍मी और गणेश जी की भी पूजा होती है।माना जाता है कि इस पर्व नईं वस्तुएं खरीदना शुभ होता हैं।

 

 जानें धनतेरस के दिन खरीदारी का शुभ मुहूर्त,ऐसे पा सकते हैं कर्ज से छुटकारा
जानें धनतेरस के दिन खरीदारी का शुभ मुहूर्त,ऐसे पा सकते हैं कर्ज से छुटकारा

से भी पढ़ेःदिवाली से पहले पटाखों के प्रतिबंध पर आज फैसला सुनाएगा सुप्रीम कोर्ट

दिवाली के दो दिन पहले धनतेरस मनाया जाता है। धनतेरस को लेकर बाजारों में खासी रौनक देखने को मिल रही है। दरअसल धनत्रयोदशी के दिन भगवान धनवंतरी जन्म हुआ था इसीलिए इस दिन को धनतेरस के रूप में पूजा जाता है। इस दिन गहनों और बर्तन की खरीदारी जरूर की जाती है।शास्त्रों के अनुसार समुद्र मंथन के दौरान त्रयोदशी के दिन ही भगवान धनवंतरी प्रकट हुए थे। इसलिए इस दिन को धन त्रयोदशी कहा जाता है। धन और वैभव देने वाले इस त्रयोदशी का विशेष महत्व माना गया है।

इसे भी पढ़ेःदिवाली मिलन कार्यक्रम: स्वस्थ लोकतंत्र के लिए डिबेट का हिस्सा बनना जरूरी

दिवाली के दो दिन पहले धनतेरस मनाया जाता है। धनतेरस को लेकर बाजारों में खासी रौनक देखने को मिल रही है। दरअसल धनत्रयोदशी के दिन भगवान धनवंतरी जन्म हुआ था इसीलिए इस दिन को धनतेरस के रूप में पूजा जाता है। इस दिन गहनों और बर्तन की खरीदारी जरूर की जाती है।शास्त्रों के अनुसार समुद्र मंथन के दौरान त्रयोदशी के दिन ही भगवान धनवंतरी प्रकट हुए थे। इसलिए इस दिन को धन त्रयोदशी कहा जाता है। धन और वैभव देने वाले इस त्रयोदशी का विशेष महत्व माना गया है।

खरीदारी का एक शुभ मुहूर्त होता है

आपको बता दें कि धनतेरस के दिन हर घर में नई-नई चीज़ों को खरीदने की परंपरा रही है।क्योंकि इस दिन घर में कुछ भी नया सामान लाना शुभ माना जाता है। खासकर, सोना-चांदी, बरतन, फर्नीचर और मशीनें. लेकिन धनतेरस के दिन भी इन्हें खरीदने का एक शुभ मुहूर्त होता है। जिस तरह हिन्दू धर्म में सभी कार्यों के लिए एक तिथि और समय निर्धारित होता है। ठीक वैसे ही धनतेरस के दिन भी घरों में नए सामान लाने का शुभ मुहूर्त है। जो इस बार सिर्फ 1 घंटे 57 मिनट के लिए रहेगा।धनतेरस की पूजा और सामान खरीदने का शुभ मुहूर्त नीचे बताया गया है।

धनतेरस पूजा मुहूर्त-
5 नवंबर 2018 को शाम 6 बजकर 20 मिनट से रात 8 बजकर 17 मिनट तक है।
उक्त 1 घंटे 57 मिनट की अवधि में पूजा करने से धन की प्राप्ति होगी। और कर्ज से भी मुक्ति मिलेगी। धनतेरस के दिन लक्ष्मी की पूजा से घर में संपन्नता आती है।

गौरतलब है कि धनरतेस के दिन क्षीर सागर के मंथन के दौरान माता लक्ष्मी और भगवान कुबेर प्रकट हुए थे। इसीलिए इस दिन धन की लक्ष्मी और कुबेर देवता की खास पूजा होती है। माना जाता है कि धनतेरस को धनत्रयोदशी को धन्‍वंतरि त्रियोदशी या धन्‍वंतरि जयंती भी कहा जाता है।मान्यता है कि अकाल मृत्यु का डर खत्म करने के लिए धनतेरस के दिन यमराज की भी की जाती है।

महेश कुमार यादव